लखनऊ . केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा इस साल मार्च में जबरन सेवानिवृत्त किए गए यूपी कैडर के पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर नई मुसीबत में फंस गए हैं। उन्हें आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में यूपी पुलिस ने आज लखनऊ में गिरफ्तार कर लिया है। अमिताभ ठाकुर की गिरफ्तारी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सहित कई लोगों ने ट्वीट किया है।

ट्वीट किए गए वीडियो में अमिताभ ठाकुर को उनके लखनऊ आवास के बाहर जबरन एक पुलिस जीप में ढकेला जा रहा है। ठाकुर ने इसका विरोध किया और जीप के अंदर बैठने से इनकार कर दिया। वह कहते दिखाई दे रहे हैं कि “जब तक आप मुझे प्राथमिकी नहीं दिखाएंगे, मैं नहीं जाऊंगा।”

मामला पूर्वी उत्तर प्रदेश की एक 24 वर्षीय महिला की मौत से जुड़ा हुआ है। पीड़िता ने ने 2019 में बसपा सांसद अतुल राय पर बलात्कार का आरोप लगाया था। पीड़िता और उसके पुरुष मित्र ने बीती 16 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट के गेट के बाहर खुद को आग लगा ली थी। आग से बुरी तरह झुलसी पीड़िता की कुछ दिनों पहले दिल्ली के एक अस्पताल में मौत हो गई. मई 2019 में महिला ने घोसी के सांसद अतुल राय के खिलाफ मामला दर्ज कराया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि उन्होंने वाराणसी में अपने आवास पर उसके साथ बलात्कार किया था। अतुल राय ने एक महीने बाद आत्मसमर्पण कर दिया और तब से वह जेल में है।

नवंबर 2020 में उसके भाई ने वाराणसी में महिला के खिलाफ जालसाजी का मामला दर्ज कराया था। इस महीने की शुरुआत में अदालत ने उसके खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया जब पुलिस ने कथित तौर पर अदालत को बताया कि वह लापता है।

महिला और उसके दोस्त ने फिर दिल्ली की यात्रा की और 16 अगस्त को खुद को आग लगाने से पहले एक फेसबुक लाइव वीडियो किया। वीडियो में, उन्होंने पुलिस पर सांसद और उनके रिश्तेदारों के साथ मिलीभगत का आरोप लगाया। कथित तौर पर महिला के आरोप में पुलिस अधिकारियों के नामों में अमिताभ ठाकुर का भी नाम शामिल है। जिन्होंने महिला और उसके पुरुष मित्र को परेशान किया था।

केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा इस साल मार्च में जबरन सेवानिवृत्त किए गए यूपी कैडर के पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर नई मुसीबत में फंस गए हैं। उन्हें आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में यूपी पुलिस ने आज लखनऊ में गिरफ्तार कर लिया है। अमिताभ ठाकुर की गिरफ्तारी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सहित कई लोगों ने ट्वीट किया है।

ट्वीट किए गए वीडियो में अमिताभ ठाकुर को उनके लखनऊ आवास के बाहर जबरन एक पुलिस जीप में ढकेला जा रहा है। ठाकुर ने इसका विरोध किया और जीप के अंदर बैठने से इनकार कर दिया। वह कहते दिखाई दे रहे हैं कि “जब तक आप मुझे प्राथमिकी नहीं दिखाएंगे, मैं नहीं जाऊंगा।”

मामला पूर्वी उत्तर प्रदेश की एक 24 वर्षीय महिला की मौत से जुड़ा हुआ है। पीड़िता ने ने 2019 में बसपा सांसद अतुल राय पर बलात्कार का आरोप लगाया था। पीड़िता और उसके पुरुष मित्र ने बीती 16 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट के गेट के बाहर खुद को आग लगा ली थी। आग से बुरी तरह झुलसी पीड़िता की कुछ दिनों पहले दिल्ली के एक अस्पताल में मौत हो गई. मई 2019 में महिला ने घोसी के सांसद अतुल राय के खिलाफ मामला दर्ज कराया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि उन्होंने वाराणसी में अपने आवास पर उसके साथ बलात्कार किया था। अतुल राय ने एक महीने बाद आत्मसमर्पण कर दिया और तब से वह जेल में है।

नवंबर 2020 में उसके भाई ने वाराणसी में महिला के खिलाफ जालसाजी का मामला दर्ज कराया था। इस महीने की शुरुआत में अदालत ने उसके खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया जब पुलिस ने कथित तौर पर अदालत को बताया कि वह लापता है।

महिला और उसके दोस्त ने फिर दिल्ली की यात्रा की और 16 अगस्त को खुद को आग लगाने से पहले एक फेसबुक लाइव वीडियो किया। वीडियो में, उन्होंने पुलिस पर सांसद और उनके रिश्तेदारों के साथ मिलीभगत का आरोप लगाया। कथित तौर पर महिला के आरोप में पुलिस अधिकारियों के नामों में अमिताभ ठाकुर का भी नाम शामिल है। जिन्होंने महिला और उसके पुरुष मित्र को परेशान किया था।

Kabul Blast: अमेरिका ने आईएस आतंकियों पर की एयरस्ट्राइक, कहा- हमने टारगेट को मार गिराया

Indian Railways : फेस्टिव सीज़न के लिए इंडियन रेल्वेज़ ने बढ़ाई ट्रेनों की फ्रीक्वेंसी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर