आजमगढ़ः अपनी दहशत से लोगों को कंपा देने वाला अंडरवर्ल्ड डॉन अबु सलेम आज खुद दहशत में है. जिसका कारण है उसकी पुस्तैनी जमीन. जी हां, जेल में बंद अबु सलेम को अपनी पुस्तैनी जमीन पर कब्जा होने का डर सता रहा है जिसके चलते उसने उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ के सरायमीर थाना पुलिस पुलिस को पत्र लिखकर दबंगों द्वारा जमीन हड़पे जाने के मामले में गुहार लगाई है.

पुलिस को लिखे पत्र में सलेम ने लिखा है कि उसके गांव में उसकी 160 हेक्टेयर जमीन है. जो उसके और उसके भाइयों के नाम पर नकल खतौनी में दर्ज है. जिसकी प्रति उसके घरवालों ने 30 मार्च 2013 को ली थी उस समय तक उसमें उनका नाम ही दर्ज था. लेकिन जब 2017 नवंबर में उसके परिवार के लोगों ने खतौनी की नकल ली तो उसमें उसके और उसके भाइयों की जगह पर मोहम्मद नफीस, मोहम्मद सोकत, सरवरी, अखलाक, मोहिउद्दीन, अखलाक खान, और नदीप अख्तर का नाम दर्ज है. जिसके बाद परिवार वालों ने इस मामले में मुकदमा दर्ज करने की मांग की है.

अबु सलेम ने जमीन पर कब्जा करने वालों के खिलाफ केस दर्ज कर कार्रवाई की मांग की है. फिलहाल इस जमीन पर मॉल का निर्माण कार्य चल रहा है. सलेम का पत्र मिलने के बाद पुलिस ने मौके पर पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया और दोनों पक्षों को बुलाकर पूरा मामला जानने की कोशिश की है.

इस मामले पर अबु सलेम के वकील राजेश सिंह ने कहा कि, अबू सलेम ने मुंबई सेंट्रल जेल से खुद उनकी पुस्तैनी जमीन पर कब्जा होने के संबंध में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, आजमगढ़ के डीएम, आजमगढ़ के एसपी और थाना सरायमीर के थानाअध्यक्ष को पत्र भेजा है. वकील राजेश सिंह ने कहा, अगर मामले में कोई ठोस कार्रवाई नहीं होती है तो जमीन पर कब्जा करने वालों के खिलाफ धारा 156 के तहत आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में मुकदमा दर्ज करवाया जाएगा.

बता दें कि अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम का जन्म उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के सरायमीर गांव में 1960 में हुआ था. मुंबई धमाकों के बाद वो पूर्तगाल फरार हो गया था जिसे कई सालों बाद गिरफ्तार किया जा सका और उसे प्रत्यर्पण कर भारत लाने की कोशिश पूरी हुई थी.

 

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में तोड़ी भीमराव आंबेडकर की मूर्ति, मौके पर पहुंची पुलिस

UP ATS के हत्थे चढ़ा ISIS आतंकी, मुंबई एयरपोर्ट से किया गिरफ्तार

257 मौतों का गुनहगार अबू सलेम को इस वजह नहीं हुई फांसी की सजा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App