नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देश की राजधानी दिल्ली में हुई दो समुदायों की हिंसा में 40 से ज्यादा लोगों ने अपनी जान गंवा दी. सैंकड़ों लोग इस दंगे में घायल हुए. हिंसा का मुख्य केंद्र रहा उत्तर-पूर्वी दिल्ली अब पुलिस और सुरक्षाबलों की छावनी जैसा नजर आता है. हालांकि, पिछले दिनों के अनुसार, अब शांति बहाल है.

दिल्ली पुलिस की मानें तो 25 फरवरी की शाम से हिंसा की कोई घटना की खबर नहीं है. हालात में सुधार देखते हुए दिल्ली पुलिस ने शनिवार को सुबह 10 बजे से लेकर दोपहर दो बजे तक धारा 144 में छूट दी है. सीएम अरविंद केजरीवाल ने दंगा पीड़ितों की मदद के लिए घोषणा भी की है. पुलिस- प्रशासन लगातार हालात पर नजरें बनाए हुए हैं.

पुलिस अभी तक इस दंगे को लेकर करीब 100 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी हैं जबकि 500 से अधिक लोगों को शक के आधार पर हिरासत में भी लिया गया. वहीं दिल्ली हिंसा पर अबतक 123 एफआईआर दर्ज कर चुकी है. कांग्रेस की पूर्व निगम पार्षद इशरत जहां को पुलिस ने गिरफ्तार किया.

आम आदमी पार्टी के सस्पेंड पार्षद ताहिर हुसैन पर भी पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी. दंगा शांत होने के बाद इलाके में शांति बहाली के लिए पुलिस ने कई जगहों पर अमन कमेटी की मीटिंग का आयोजन भी कराया और दोनों समुदाय के लोगों से शांति और भाइचारा रखने की अपील की. दूसरी ओर सोशल मीडिया पर भी पुलिस की पैनी नजर है.

दंगाग्रस्त इलाकों के क्या हैं हालात ?

उत्तर- पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद, सीलमपुर, मौजपुर और भजनपुरा समेत कुछ इलाकों में ज्यादा तनाव रहा. दंगाइयों ने इन इलाकों की सैंकड़ों दुकानों में आग लगा दी. लोगों के घर से लेकर सड़कों पर खड़ी गाड़ियों तक को दंगाइयों ने फूंक डाला.

हिंसा की चपेट में आया मौजपुर इलाका अब धीरे-धीरे सामान्य हो रहा है. शनिवार सुबह वहां की ट्रैफिक मूवमेंट नॉर्मल रही. लोग भी सड़कों पर नजर आ रहे हैं. बाजार में जरूरत की कुछ दुकाने जैसे मेडिकल स्टोर्स भी खुलने लगे हैं.

भजनपुरा में भी हालात धीरे-धीरे सुधार की ओर हैं. हालांकि, इलाके में स्थित दफ्तर तो नहीं खुले हैं लेकिन सड़क पर वाहनों की आवाजाही शुरू है. हिंसा की वजह से इलाके के लोगों के रोजगार भी बड़ा असर है. अभी भी काफी संख्या में दुकाने और फैक्ट्रियां बंद हैं.

जाफराबाद- सीलमपुर इलाके में भी हालात अब सुधार की ओर है. जाफराबाद से मौजपूर जाने वाली सड़क पर ट्रैफिक सामान्य है. लोगों की सुविधा के लिए ई- रिक्शा चालू हैं लेकिन बाजार की दुकानें अभी बंद हैं. स्थानीय लोगों को आम जरूरत की चीजों के लिए की थोड़ी पेरशानी सहनी पड़ रही है.

Congress BJP Clash Over Delhi Violence: दिल्ली हिंसा को लेकर राजधर्म पर भिड़ीं बीजेपी और कांग्रेस, रविशंकर प्रसाद के बयान पर कपिल सिब्बल का पलटवार

BJP on DP Head constable Ratan Lal: दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतन लाल को शहीद का दर्जा, 1 करोड़ रुपए की परिवार को मदद, एक सदस्य को नौकरी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App