दिल्ली. दिल्ली पुलिस की स्पेशल ने बुधवार को 32 साल के संदिग्ध इंडियन मुजाहिद्दीन (आईएम) आतंकी अरीज खान उर्फ जुनैद को गिरफ्तार किया है. वह सितंबर 2008 के बाटला हाउस एन्काउंटर के बाद से फरार था. इस मुठभेड़ में पुलिस ने आईएम के दो संदिग्धों को मार गिराया था और दो को पकड़ लिया था. लेकिन जुनैद भागने में कामयाब रहा था. इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा इस मुठभेड़ में मारे गए थे. जुनैद को उत्तराखंड में बनवासा से गिरफ्तार किया गया है, जो नेपाल बॉर्डर के पास है. यहां वह अपने एक साथी से मिलने आया था. स्पेशल सेल को यह जानकारी अब्दुल सुभान नाम के शख्स से मिली थी. बम बनाने में उसे माहिर माना जाता है.

डीसीपी (स्पेशल सेल) पीएस कुशवाहा ने बताया कि यह एक बड़ी कामयाबी है, क्योंकि वह 2008 से फरार था. उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ का रहने वाला जुनैद पेशे से इंजीनियर है और वह स्पेशल सेल के साथ एन्काउंटर के वक्त कथित तौर पर जामिया नगर के बाटला हाउस के मकान नंबर एल-18 में रह रहा था. जुनैद ज्यादातर बड़े हमलों में शामिल रहा है. एनआईए ने उस पर 10 और दिल्ली पुलिस ने 5 लाख का इनाम घोषित कर रखा था.उसका हाथ दिल्ली, अहमदाबाद, यूपी और जयपुर में हुए धमाकों में रहा है. 

 गौरतलब है कि दिल्ली के पहाड़गंज, बाराखंबा रोड, कनॉट प्लेस, गोविंदपुरी और ग्रेटर कैलाश में सीरियल ब्लास्ट के 6 दिन बाद एन्काउंटर हुआ था, जिसमें 30 लोग मारे गए और 100 घायल हो गए.जिन मामलों में वह शामिल रहा है, उसमें 165 लोगों की मौत हुई है.