नई दिल्ली. राजधानी दिल्‍ली में 9 वर्षीय दलित बच्ची के साथ रेप कर हत्या कर देने के बाद लोगों में काफी आक्रोश है। परिवार के लिए न्याय की मांग को लेकर भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद के साथ पूर्व शीर्ष पुलिस अधिकारी और पेशेवर पहलवान सहित विभिन्न क्षेत्रों के लोग मंगलवार को विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए।

पीड़िता के माता-पिता का आरोप है कि उनकी बच्ची के साथ बलात्कार किया गया और एक पुजारी ने यह झूठ बोलकर उसका जबरन अंतिम संस्कार करा दिया कि उसकी मौत बिजली का करंट लगने से हुई है. बच्ची के माता-पिता ने अन्य लोगों के साथ मिलकर मंगलवार को पुराना नांगल क्षेत्र में घटनास्थल पर धरना दिया और दोषियों को मृत्युदंड दिए जाने की मांग की।

भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद मामले की उचित तरीके से जांच होनी चाहिए। यह झूठ था कि लड़की की मौत करंट लगने से हुई थी। उन्होंने परिवार की मौजूदगी के बिना उसका अंतिम संस्कार कर दिया। हमने सुना है कि लड़की के माता-पिता पर भी उसी के मुताबिक बयान देने का दबाव डाला गया।

पुलिस ने बच्ची की मां के बयान के आधार पर पोक्सो एक्ट, SC एक्ट, हत्या और रेप समेत कई धाराओं में मामला दर्ज करते हुए पुजारी सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया था कि बच्ची अपने माता-पिता के साथ गांव में श्मशान घाट के सामने किराए के घर में रहती थी। रविवार शाम साढ़े पांच बजे वह अपनी मां को सूचित कर श्मशान घाट में लगे पानी के कूलर से ठंडा पानी लेने गई थी. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि शाम छह बजे श्मशान घाट के पुजारी राधेश्याम और बच्ची की मां को जानने वाले दो-तीन अन्य लोगों ने उसे वहां बुलाया और बेटी का शव दिखाकर दावा किया कि कूलर से पानी लेने के दौरान करंट लगने से उसकी मौत हो गई।

PV Sindhu returns India : टोक्यो में ओलंपिक जीतकर भारत लौटी पीवी सिंधु, कहा-अब प्रधानमंत्री के साथ आइसक्रीम खाऊंगी

CBSC Results 2021: सीबीएसई 10वीं के नतीजे घोषित, 99.04% पास, यहां देखें रिजल्ट

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर