चंडीगढ़ः हरियाणा विधानसभा में बीते मंगलवार को नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला और कांग्रेस विधायक करण दलाल के बीच काफी नोंकझोक हुई. दोनों नेताओं ने एक-दूसरे को जमकर गालियां दीं. बात तब हद से आगे बढ़ गई जब दोनों ही नेता एक-दूसरे को मारने के लिए जूते दिखाने लगे. विधानसभा में हुई इस घटना पर नाराजगी जताते हुए विधानसभा अध्यक्ष कंवर पाल ने विधायक करण दलाल को एक साल के लिए सस्पेंड कर दिया. विधायक करण दलाल के निलंबन का फैसला ध्वनि मत से करने के प्रस्ताव को पारित करने के बाद स्पीकर ने उन्हें सस्पेंड किए जाने का फैसला सुनाया. विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय लोकदल ने भी प्रस्ताव का समर्थन किया.

विधायक करण दलाल के निलंबन के बाद कांग्रेस ने अभय चौटाला को भी निलंबित किए जाने की मांग की. कांग्रेस ने धमकी दी है कि अगर करण दलाल का निलंबन वापस नहीं होता है या फिर चौटाला को भी निलंबित नहीं किया जाता है तो वह स्पीकर के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट जाएंगे. हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इसे काला दिन करार दिया. उन्होंने कहा कि एक साल के लिए सदन के किसी सदस्य को निलंबित करने का कोई नियम नहीं है. ज्यादा से ज्यादा किसी सदस्य को एक सत्र के लिए निलंबित किया जा सकता है. फिलहाल कांग्रेस नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग पर अड़ी है.

क्या है मामला?
मंगलवार को हरियाणा विधानसभा में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के दौरान विधायक करण दलाल ने 25 लाख राशन कार्ड धारकों के नाम हटाने का मुद्दा उठाया. उपभोक्ता मामले के मंत्री करंदेव कामबोज ने इस पर सफाई दी. दलाल द्वारा आपत्तिजनक शब्द के इस्तेमाल पर सदन में हंगामा हो गया. कृषि मंत्री ओ.पी. धनकर ने दलाल को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने की मांग की. बीजेपी विधायकों ने आरोप लगाया कि दलाल ने समूचे हरियाणा के लिए आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल किया है.

हंगामे की वजह से सदन को स्थगित करना पड़ा
हंगामे के चलते कुछ देर के लिए सदन को स्थगित करना पड़ा. अभय चौटाला ने सदन में दलाल को निलंबित करने की मांग की. इसके बाद उनके बीच तीखी बहस हुई और दोनों नेताओं ने एक-दूसरे को गाली देते हुए मारने के लिए जूते दिखाए. किसी तरह बीच-बचाव किया गया. बीजेपी विधायक कैप्टन अभिमन्यु ने दलाल के निलंबन की मांग के प्रस्ताव को आगे बढ़ाया और फिर इसे सदन में पारित कर दिया गया. कांग्रेस ने नियमों के हवाला देते हुए निलंबन वापस लेने की मांग की. अध्यक्ष कंवर पाल ने इससे इनकार करते हुए सदन को फिर से स्थगित कर दिया.

हरियाणा में MLM कंपनी फ्यूचर केयर का भंडाफोड़, 1200 करोड़ की ठगी के आरोप में मास्टरमाइंड गिरफ्तार