Subscribe to

चौथी बार राज्यसभा सांसद बनते-बनते रह गए कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला, ये रही वजह

गुजरात में 4 सीटों पर राज्यसभा चुनाव होने हैं. सोमवार को कांग्रेस पार्टी ने ऐन मौके पर राजीव शुक्ला को राज्यसभा चुनाव के लिए गुजरात से नामांकन भरने के निर्देश दिए. दोपहर करीब 12 बजे राजीव शुक्ला को पार्टी की ओर से अहमदाबाद पहुंचकर नामांकन भरने को कहा गया. आलाकमान से हरी झंडी मिलने के बाद राजीव शुक्ला ने अहमदाबाद पहुंचने की सभी तैयारी पूरी कर ली. चूंकि नामांकन दाखिल करने का आखिरी समय 3 बजे तक था, उन्होंने दिल्ली से अहमदाबाद पहुंचने के लिए चार्टर्ड प्लेन का इंतजाम किया लेकिन वह गुजरात नहीं पहुंच पाए.

  • By
  • इनखबर टीम
  • |
  • Updated
  • :
  • March 13, 2018,
  • 4:44 PM
Rajeev Shukla Rajya Sabha Gujarat

कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला (फोटो क्रेडिटः सोशल मीडिया)

नई दिल्लीः 16 राज्यों की 58 राज्यसभा सीटों के लिए 23 मार्च को चुनाव होंगे. नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है. 12 मार्च यानी सोमवार को नामांकन का आखिरी दिन था लेकिन कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला के साथ जो हुआ उसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे. दरअसल सोमवार को कांग्रेस ने शुक्ला को एक बार फिर राज्यसभा भेजने का मौका तो दिया लेकिन समय ने उनका साथ नहीं दिया. मतलब तीन बार राज्यसभा सदस्य रहे राजीव शुक्ला इस बार सदन में दिखाई नहीं देंगे.

इंडिया टुडे ग्रुप की खबर के अनुसार, गुजरात में 4 सीटों पर राज्यसभा चुनाव होने हैं. सोमवार को कांग्रेस पार्टी ने ऐन मौके पर राजीव शुक्ला को राज्यसभा चुनाव के लिए गुजरात से नामांकन भरने के निर्देश दिए. दोपहर करीब 12 बजे राजीव शुक्ला को पार्टी की ओर से अहमदाबाद पहुंचकर नामांकन भरने को कहा गया. आलाकमान से हरी झंडी मिलने के बाद राजीव शुक्ला ने अहमदाबाद पहुंचने की सभी तैयारी पूरी कर ली. चूंकि नामांकन दाखिल करने का आखिरी समय 3 बजे तक था, उन्होंने दिल्ली से अहमदाबाद पहुंचने के लिए चार्टर्ड प्लेन का इंतजाम किया.

सब कुछ ठीक था लेकिन फिर भी उनकी तमाम कोशिशें उन्हें गुजरात नहीं पहुंचा पाई. दरअसल आनन-फानन में वह एयरपोर्ट पहुंचे तो पता चला कि उनके चार्टर्ड प्लेन को लैंडिंग के लिए अहमदाबाद एयरपोर्ट से परमिशन नहीं मिली है. अहमदाबाद एयरपोर्ट पर निर्माण कार्य चल रहा था जिसकी वजह से एयरपोर्ट शाम 7 बजे तक बंद था. मायूस होकर शुक्ला वापस घर लौट आए. दरअसल यह जल्दबाजी एक वजह से पैदा हुई थी. नरेन भाई राठवा गुजरात से कांग्रेस उम्मीदवार हैं. सोमवार को जब वह नामांकन दाखिल करने पहुंचे तो उनके दस्तावेजों को लेकर उन्हें देरी हो गई.

एक पल के लिए ऐसा लगा कि राठवा तय वक्त में नामांकन दाखिल नहीं कर पाएंगे. सूत्रों के अनुसार, इसी वजह से राजीव शुक्ला को पार्टी हाईकमान की ओर से गुजरात जाने के लिए कहा गया था. हालांकि राठवा ने आखिरी चंद मिनटों में नामांकन दाखिल कर दिया. बताते चलें कि 4 राज्यसभा सीटों पर बीजेपी और कांग्रेस ने 3-3 उम्मीदवारों को उतारा है. बीजेपी जहां कांग्रेस विधायकों के क्रॉस वोटिंग करने की आशंका जता रही है तो कांग्रेस निर्दलीय प्रत्याशी पीके वलेरा (कांग्रेस नेता) को समर्थन देने की बात कह रही है. बहरहाल पिछले साल की तरह इस बार भी राज्यसभा सीटों पर चुनाव को लेकर काफी ड्रामे की आशंका जताई जा रही है.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App