नई दिल्ली. केजरीवाल सरकार की ओर से कोरोना से अपने अभिभावकों को खोने वाले बच्चों की मदद का ऐलान किया गया है। अब जल्द ही योजना के तहत आवेदन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। आवेदन की प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन रहेगी।

अगले सप्ताह से पोर्टल की शुरुआत संभव

दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने कोरोना महामारी से अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों के लिए मदद का ऐलान किया था। इसके लिए अब ऑनलाइन प्रक्रिया की शुरुआत की जा रही है। मुख्यमंत्री कोविड-19 परिवार आर्थिक सहायता योजना के तहत आवेदन लिए जाएंगे। इसके लिए केजरीवाल सरकार की तरफ से ऑनलाइन पोर्टल बनवा लिया गया है। जिसके जरिए योजना के तहत दिल्ली के प्रभावित लोग आवेदन कर सकते हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इस पोर्टल की शुरूआत अगले सप्ताह कर सकते हैं, ताकि दिल्लीवासी अपने घर से ही आसानी से योजना के तहत आवेदन कर दें।

पढ़ाई से लेकर परवरिश का खर्च उठाएगी सरकार

केजरीवाल सरकार, कोरोना के प्रकोप से अनाथ हुए बच्चों और बेसहारा हुए बुजुर्गों का सहारा बनेगी। उन बच्चों की पढ़ाई और परवरिश का सारा खर्चा उठाएगी जिनके माता-पिता कोरोना की महामारी से चल बसे हैं। जानकारी के मुताबिक जिन लोगों की कोरोना से मौत हुई है, उनके परिवार को 50 हजार रुपए दिए जाएंगे। वहीं, जिन परिवारों में कमाने वाले व्यक्ति की मौत हुई है, उनको मुआवजा के साथ 2500 रुपए महीना पेशन भी मिलेगी। कोरोना के चलते अनाथ हुए बच्चों को 25 साल की उम्र तक 2500 रुपए महीना पेंशन दी जाएगी और पढ़ाई भी मुफ्त होगी।

केजरीवाल सरकार की योजनाओं को कई राज्यों ने किया कॉपी

केजरीवाल सरकार की इस योजना को कई राज्यों ने फॉलो किया है। पंजाब, राजस्थान से लेकर अन्य राज्य अपने-अपने यहां योजना को लागू करने की घोषणा कर चुके हैं। इसके अलावा केंद्र सरकार ने भी इसी योजना को कॉपी किया है और पूरे देश में कोरोना महामारी से अपने परिजनों को खोने वाले बच्चों को मदद देने का ऐलान किया है।

Ravi Shankar Prasad Twitter Account locked : सिंगर एआर रहमान का गाना मां तुझे सलाम के कारण आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद का ट्विटर अकाउंट हुआ था लॅाक

Dengue and Chikungunya prevention : डेंगू और चिकनगुनिया में क्या है समानता, रोकथाम के लिए क्या करें और क्या न करें

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर