नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भारत में आईएसओ से प्रमाणित पहले विधायक कार्यालय का आज उद्घाटन किया। आईएसओ-9001 का यह प्रमाण पत्र, आम आदमी पार्टी के तिमारपुर विधानसभा से एमएलए दिलीप पांडे के विधायक कार्यालय को मिला है। ‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि विधायक कार्यालय में सभी व्यवस्थाएं शानदार है। कार्यालय में आने वाली विभिन्न विभागों से संबंधित समस्याओं को सुनने के लिए अलग-अलग लोगों को जिम्मेदारी सौंपी गई है।

उन्होंने कहा कि दिलीप पांडे को सबसे बड़ा सर्टिफिकेट उसी दिन मिल गया था, जिस दिन जनता ने उन्हें जिताया था। स्कूल खोलने के सवाल पर सीएम ने कहा कि आदर्श स्थिति तो यह है कि वैक्सीनेशन के बाद ही स्कूल खुलें। अभिभावक अभी भी बच्चों की सुरक्षा को लेकर बहुत ज्यादा चिंतित हैं। हमारे पास वैक्सीन है ही नहीं। केंद्र सरकार को इसके बारे में सोचना पड़ेगा कि वैक्सीन की उपलब्धता को कैसे बढ़ाई जाए?

‘आप’ विधायक दिलीप पांडे ने ट्वीट कर कहा, “आदरणीय अरविंद केजरीवाल जी, आपसे प्रेरित सेवा भाव की राजनीति का एक नवीन आयाम है यह आईएसओ 9001:2015 सर्टिफ़िकेशन। और जैसा कि आपने कहा, सबसे बड़ा सर्टिफ़िकेट तो जनता देती है, हम हमेशा आपके दिशा-निर्देशन में इस एकमेव जनता प्रदत्त प्रमाणपत्र के लिए काम करते रहेंगे।”

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक एंव दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज तिमारपुर से विधायक दिलीप पांडे के आईएसओ प्रमाणित विधायक कार्यालय के उद्घाटन के दौरान मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि विधायक दिलीप पांडे ने अपना नया विधायक दफ्तर बहुत ही अच्छा बनाया है। यह दफ्तर विधायक नहीं है, बल्कि आम जनता का दफ्तर है। आप लोगों को कभी कोई परेशानी हो, किसी भी चीज की कोई समस्या हो, तो आप इस दफ्तर में आकर अपना काम करवा सकते हैं। विधायक दिलीप पांडे ने अपने कार्यालय में जो व्यवस्थाएं की हैं, वह बहुत ही शानदार है। इन्होंने सारा सिस्टम बना दिया है। अभी तक आप किसी के भी दफ्तर में जाइए, आपको चाहे जलबोर्ड की समस्या है, चाहे राशन की समस्या है, चाहे पीडब्ल्यूडी की समस्या है। उस विधायक कार्यालय में जो व्यक्ति बैठा होता है, हो सकता है कि उसको विभाग का पता ही न हो और उसे समझ नहीं आ रहा हो कि वह क्या करे। दिलीप पांडे ने इन सब समस्याओं को लेकर सारा सिस्टम बनाया है और सभी विभागों से संबंधित समस्याओं को एक-एक व्यक्ति को जिम्मेदारी सौंप दी है।

‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आईएसओ-9001 एक अंतरराष्ट्रीय संस्था है। यह संस्था विधायक कार्यालय में उपलब्ध सुविधाओं को देख कर गई। संस्था ने कहा कि हम विधायक कार्यालय को अपना सर्टिफिकेट देने को तैयार हैं। इन्होंने जो व्यवस्था बनाई है, वह व्यवस्था बिल्कुल अंतरराष्ट्रीय मानकों पर है। आज तक पूरे देश में आईएसओ संस्था ने इस तरह का सर्टिफिकेट किसी भी विधायक कार्यालय को नहीं दिया है। वैसे तो सबसे बड़ा सर्टिफिकेट उसी दिन मिल गया था, जिस दिन आप लोगों ने अपना बहुमुल्य वोट देकर दिलीप पांडे को जिताया था। उससे बड़ा तो कोई सर्टिफिकेट हो ही नहीं सकता। अब इस संस्था ने सर्टिफिकेट दिया है। इसका मतलब यह है कि इन्होंने जो व्यवस्था की है, वह ठीक है। अब इसके बाद इन्हें आपका सर्टिफिकेट चाहिए। आगे कभी कोई समस्या हो, तो आप यहां दफ्तर में आना और देखना कि इन्होंने जो नई व्यवस्था की है, वह ठीक है या नहीं है। आप लोग जिस दिन कहेंगे कि व्यवस्था अच्छी की गई है, वही असली सर्टिफिकेट होगा। जिस दिन जनता खुश होगी और जनता कहेगी कि सही व्यवस्था हो गई। उस दिन ही इस व्यवस्था को सही व्यवस्था मानी जाएगी। मैं दिलीप पांडे को इसके लिए बधाई देना चाहता हूं कि उन्होंने यह अच्छी व्यवस्था की है। अगर यह व्यवस्था यहां सफल होती है, तो फिर पूरी दिल्ली में सभी विधायकों के कार्यालय में इसको लागू करेंगे।

‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि विधायक दिलीप पांडे ने अपने विधानसभा में लोगों के लिए जो जन संपर्क कार्यालय बनाया है, अगर किसी को भी कोई समस्या होती है, तो वह यहां पर आ सकता है। वैसे तो पूरे देश के अंदर हर विधायक अपनी-अपनी विधानसभा में एक-एक कार्यालय बनाता ही है, लेकिन इस कार्यालय की खासियत यह है कि इन्होंने यहां पर आंतरिक सिस्टम ऐसा बनाए हैं कि कोई भी अपनी समस्या लेकर आएगा, तो उस समस्या के समाधान को लेकर प्रक्रिया क्या होगी? उस समस्या को कौन देखेगा और फिर वह क्या करेगा और समस्या का समाधान कैसे कराया जाएगा? इन्होंने यह सारी प्रक्रिया बनाई है और उसे अच्छे से लागू किया है। आईएसओ के लोग यहां पर आए और इसका परीक्षण करके गए और इसके बाद विधायक कार्यालय को आईएसओ सर्टिफिकेट मिला है। पूरे भार में संभवतः यह पहला विधायक कार्यालय है, जिसको आईएसओ सर्टिफिकेट मिला है।

स्कूल खोलन के सवाल पर सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आदर्श स्थिति तो यही है कि वैक्सीनेशन के बाद ही स्कूल खुलें। बाकी राज्यों के अंदर अगर स्कूल खुल रहे हैं और उनके अनुभव अच्छे रहे, तो देखेंगे। अभी थोड़े दिन उनको देखते हैं। क्योंकि दिल्ली में जो अभिभावक हैं, उनके अभी भी मेरे पास मैसेज यही आ रहे हैं कि बच्चों की सुरक्षा को लेकर सभी अभिभावक बहुत ज्यादा चिंतित हैं। वैक्सीन की कमी को लेकर पूछे गए सवाल पर सीएम ने कहा कि वैक्सीन है ही नहीं। केंद्र सरकार को इसके बारे में सोचना पड़ेगा कि वैक्सीन की उपलब्धता को कैसे बढ़ाई जाए।

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर