पटना. बिहार में एकबार फिर राजनीति गरमाई हुई है। आरजेडी के राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक ने एलजेपी प्रमुख चिराग पासवान से मुलाकात कर राजनीतिक बदलाव के संकेत दिए। वहीं, दूसरी तरफ आरजेडी के वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह और शहाबुद्दीन के परिवार से मिले। इस मुलाकात के सियासी मायने निकाले जाने लगे हैं।

वहीं चिराग पासवान ने 15 मिनट से ज्यादा समय तक फोन पर राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ भी बातचीत की। लालू यादव से बातचीत करने के बाद चिराग ने तेजस्वी यादव के साथ बात की। सूत्रों का कहना है कि दोनों नेताओं ने बिहार में भविष्य के राजनीतिक गठबंधन को लेकर चर्चा की। 

एलजेपी प्रमुख चिराग पासवान अपने चाचा पशुपति पारस के बगापत के बाद सियासी संकट का सामना कर रहे हैं। बीजेपी ने भी चिराग से किनारा कर लिया हैं। ऐसे में आरजेडी की ओर से लगातार चिराग को साथ आने का ऑफर दिया जा रहा है। इतना ही नहीं आरजेडी ने 5 जुलाई को अपनी स्थापना दिवस मौके पर एलजेपी के संस्थापक रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि देने के साथ कार्यक्रम की शुरूआत की थी।

बिहार में दलित राजनीति का मजबूत चेहरा माने जाने वाले श्याम रजक ने चुनाव से ठीक पहले जेडीयू छोड़कर आरजेडी का दामन थाम लिया था। वो लालू परिवार के करीबी नेताओं में गिने जाते हैं और आरजेडी ने उन्हें दलित वोटों का साधने के मोर्चे पर लगा रखा है। श्‍याम रजक ने रविवार को दिल्ली में चिराग पासवान से मुलाकात की है। हालांकि, तेजस्वी यादव ने पहले ही आगे बढ़ कर चिराग को साथ आने का ऑफर दिया था।

वहीं चिराग के राजद से जुड़ने के सवाल पर रजक ने कहा, ‘वे सभी जो लोहिया और अंबेडकर की विचारधारा को आगे बढ़ाना चाहते हैं, उन सभी का स्वागत है। चाहे वह चिराग पासवान हों अथवा कोई और।’ 

Sky Lighting: आफ़त बनकर आई बारिश, आकाशीय बिजली गिरने से यूपी और राजस्थान में 60 लोगों की मौत, कई घायल

AAP Uttarakhand Free Electricity Promise: सीएम अरविंद केजरीवाल का वादा- सरकार बनी तो 300 यूनिट बिजली फ्री, पुराने बिल होंगे माफ

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर