देहरादून. कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर उत्तराखंड सरकार ने वर्ष 2021 के लिए चार धाम यात्रा को स्थगित कर दिया है. मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने बताया कि इस वर्ष लोगों को चार धाम यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी, लेकिन चार मंदिरों के पुजारी अनुष्ठान और पूजा करेंगे वो भी कोविड प्रोटोकॉलम के तहत जो केन्द्रीय सरकार द्वारा जारी किए गए हैं.

चार धाम यात्रा इस साल 3 मई को शुरू होने वाली थी और राज्य सरकार ने पहले धार्मिक यात्रा में भाग लेने वाले तीर्थयात्रियों के लिए कोविड टेस्ट दिखाने की सलाह जारी की थी. उत्तराखंड सरकार ने भक्तों के लिए अन्य दिशानिर्देशों के बीच नकारात्मक आरटी-पीसीआर परीक्षण रिपोर्ट अनिवार्य कर दी थी,

यह निर्णय ऐसे समय में आया है जब उत्तराखंड बुधवार को 6,054 नए कोविड-19 मामले सामने आया. राज्य में कुल कोरोना की संख्या 1,68,616 तक ले गई, जबकि 108 मौत हुई.

देहरादून जिले में सर्वाधिक 2,329 मामले दर्ज हैं, इसके बाद हरिद्वार, 1,178 मामले, ऊधमसिंह नगर 849, नैनीताल 665, चमोली 175, पौड़ी 174 चंपावत 153, अल्मोड़ा 140, बागेश्वर 128 और टिहरी 109, एक राज्य स्वास्थ्य विभाग बुलेटिन की रिपोर्ट की गई.

यात्रा चार धाम देवस्थानम बोर्ड द्वारा प्रबंधित की जाती है, 2019 में, लगभग 38 लाख तीर्थयात्रियों ने पवित्र मंदिरों का दौरा किया, लेकिन 2020 में, कोविड-19 महामारी के कारण, केवल 4.2 लाख ही पवित्र तीर्थयात्रा कर सके.

उत्तराखंड सरकार भी एक दिन में तीर्थ यात्रियों की संख्या को सीमित करने की संभावना थी. पिछले साल यह केदारनाथ मंदिर के लिए 800, बद्रीनाथ के लिए 1200, गंगोत्री के लिए 600 और यमुनोत्री के लिए 400 था.

Weekend Curfew Extend in Up : शुक्रवार आठ बजे से मंगलवार सुबह सात बजे यूपी में लॅाकडाउन

High Court on Remedesivir Injection: कहां गायब हो गए 50 हजार रेमडिसिवर इंजेक्शन, हाईकोर्ट के सवाल के जवाब में केंद्र और दिल्ली दोनों ने साधी चुप्पी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर