लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने पिछली सपा सरकार और भाजपा की मौजूदा सरकार पर हमलावर होते हुए योगी सरकार के होने वाले गोरखपुर महोत्सव की कड़ी आलोचना की है. उन्होंने कहा कि जहाँ एक ओर यूपी के किसान अपनी फसलों का सही मूल्य न मिलने से परेशान हैं वहीं दूसरी ओर सरकार सैफई महोत्सव की तर्ज पर गोरखपुर महोत्सव में सरकारी धन लुटाने जा रही है. उन्होंने कहा उत्तर प्रदेश में अपराध, लॉ एंड आर्डर और विकास-कार्यों की स्थिति दयनीय है. इसके अलावा लगातार सरकारी मशीनरी और धन का दुरुपयोग किया जा रहा है. बता दें कि हाल ही में यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने गोरखपुर महोत्सव मनाए जाने की घोषणा की थी. इसमें विभिन्न रंगारंग कार्यक्रमों के साथ भोजपुरी नाइट के आयोजन की भी बात कही गई थी.

बता दें कि पिछले दिनों लखनऊ में प्रदेश भर के आलू किसान बाजार में सही दाम न मिलने की वजह से इकट्ठा हुए थे. इसके बाद उन्होंने सड़क पर आलू फैलाकर अपना विरोध जताया था. इसके बाद विभिन्न राजनीतिक दलों ने आलू किसानों के समर्थन में आलू का समर्थन मूल्य घोषित करने की बात कही थी. यूपी कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने भी राज्यपाल से मिलकर आलू का समर्थन मूल्य 1000 रु. प्रति कुंतल घोषित करने की बात कही थी. इसके  साथ ही आलू किसानों का बिजली बिल माफ करने, मंडी समिति का टैक्स खत्म करने, कोल्ड स्टोरेज के किराये की सीमा तय करने और फसल बीमा की नियम और शर्तों में बदलाव करने की बात भी मांग की गई है.

यूपीः योगी आदित्यनाथ सरकार पर फूटा किसानों का गुस्सा, लखनऊ में सड़कों पर फेंका कुतलों आलू

महाबहस: किसानों ने कर्ज लेकर, पसीना बहाकर पैदा किया था आलू, अब सड़कों पर फेंकने के लिए क्यों हुए मजबूर?