पटना. ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों के बीच बिहार से एक गंभीर मामला सामने आया है। मधुबनी जिले में सदर अस्पताल से ब्लैक फंगस के इलाज के लिए चिन्हित इंजेक्शन एमफोटेरिसिन-बी की 20 वाइल गायब हो गईं हैं। इसके गायब होने के बाद हड़कंप मच गया।

इस मामले में ए ग्रेड नर्स चंद्रकला ने बताया कि यह दवा इमरजेंसी के बगल वाले स्टोर के आईएलआर (डीपफ्रीजर) में रखी गई थी, जहां से दो पैकेट सुई गायब हो गई है। उन्होंने बताया कि अप्रैल में सिर्फ दो लोगों को सुई देकर स्टॉक में 95 वायल सुई शेष की रिपोर्ट भी भेजी गई। जबकि जून में स्टॉक मिलाने के क्रम में 95 में से सिर्फ 75 वायल सुई ही उपलब्ध थी।

इस मामले की जांच के लिए सिविल सर्जन ने प्रभारी सिविल सर्जन सह एसीएमओ, प्रभारी अधीक्षक डॉ. डी.एस.मिश्रा सहित 4 लोगों की एक कमिटी बना दी। कमिटी ने स्टोर से संबंधित 3 लोगों से पूछताछ की है और लिखित जवाब भी मांगा है। मालूम हो कि गायब ब्लैक के इंजेक्शन की कीमत 50 हजार से एक लाख रुपये तक बताई जा रही है।

Twitter Controversy : सरकार और ट्विटर में फिर ठनी, ट्विटर ने उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू का ब्लू टिक हटाकर वापस लगाया, कई आरएसएस नेताओं का भी हटाया ब्लू टिक

Youth Arrested : जेल जाना चाहता था युवक, पुलिस को कॉल करके दी पीएम मोदी को जान से मारने की धमकी