नई दिल्लीः बीजेपी के वरिष्ठ नेता और सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने असदुद्दीन ओवैसी के उस बयान को लेकर उनपर निशाना साधा है, जिसमें AIMIM पार्टी के मुखिया ओवैसी ने कहा था सुंजवां में हुए आतंकी हमले में शहीद होने वाले 6 में से 5 जवान मुसलमान थे. सुब्रमण्यम स्वामी ने ओवैसी पर हमला बोलते हुए कहा कि वह यह गिन सकते हैं कि कितने मुसलमान जवान शहीद हुए लेकिन क्या ओवैसी आतंकी संगठनों में शामिल मुस्लिमों की संख्या भी गिन सकते हैं?

सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने गुरुवार सुबह ट्वीट किया, ‘असदुद्दीन ओवैसी ये गिन सकते हैं कि कितने मुस्लिम जवान मारे गए लेकिन क्या वो आतंकी संगठनों से जुड़ने वाले उन मुसलमानों को भी गिन सकते हैं जो हमारी सेना पर हमला करते हैं?’ ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि स्वामी ने ओवैसी पर हमला बोला है, इससे पहले भी वह कश्मीर मुद्दे और राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद पर विरोधाभासी बयान दे चुके हैं. धर्म और राजनीति के मुद्दे पर अक्सर सुब्रमण्यम स्वामी और असदुद्दीन ओवैसी आमने-सामने दिखाई देते हैं.

गौरतलब है कि AIMIM पार्टी के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार को कहा था कि सुंजवां आर्मी कैंप पर हुए आतंकी हमले में शहीद होने वाले 6 में से 5 जवान मुसलमान थे. क्या अब भी मुस्लिमों की वफादारी पर शक किया जाएगा. इसके जवाब में सेना में उत्तरी कमान के लेफ्टिनेंट जनरल देवराज अन्बू बुधवार को मीडिया के सामने आए और उन्होंने ओवैसी का नाम लिए बगैर कहा कि जो लोग इस तरह के बयान देते हैं वह भारतीय सेना को नहीं जानते. आर्मी अफसर देवराज अन्बू ने कहा, ‘हम शहादत को सांप्रदायिक रंग नहीं देते क्योंकि शहीदों का कोई धर्म नहीं होता.’ इस दौरान लेफ्टिनेंट जनरल ने दो टूक कहा कि जो भी शख्स देश के खिलाफ हथियार उठाता है, वो आतंकी है और ऐसे लोगों से सख्ती से निपटा जाएगा.

बता दें कि 10 फरवरी की सुबह सुंजवां आर्मी कैंप पर कुछ आतंकियों ने हमला कर दिया था. इस हमले में 5 जवान शहीद हो गए. आर्मी ने कई घंटों चले ऑपरेशन के बाद सभी आतंकियों को मार गिराया. आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी. हमले में महिलाओं और बच्चों समेत 10 लोग घायल भी हुए थे. सोमवार को श्रीनगर के सीआरपीएफ कैंप पर भी आतंकी हमला हुआ, जिसमें एक जवान शहीद हो गया.

 

सुंजवान हमले में घायल हुए बहादुर मेजर अभिजीत ने होश में आते ही पूछा- आतंकियों का क्या हुआ?

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App