पटना. जम्मू कश्मीर में आतंकी हमले में शहीद हुए मुजाहिद खान का अंतिम संस्कार जब बिहार के आरा के पीरो गांव में किया गया तो उस दौरान उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए बिहार की नीतीश कुमार सरकार का एक भी मंत्री वहां मौजूद नहीं था. इसको लेकर एक तरफ जहां नीतीश सरकार की तीखी आलोचना हो रही है वहीं इस अंतिम संस्कार में न पहुंचने वाले राज्य सरकार के मंत्री विनोद सिंह की एक तस्वीर भी वायरल हो रही है जिसमें वे प्राणपुर से विधायक अपनी पत्नी निशा सिंह के साथ हाथ में गुलाब लिए वेलेंटाइन डे मनाते नजर रहे हैं. इस तस्वीर के आने के बाद से मामला और बढ़ गया है.

इसको लेकर एआईएमआईएम के अध्यक्ष असद्दुदीन ओवैसी ने भी सवाल उठाए हैं. वहीं जदयु ने माना है कि बिहार सरकार से इस मामले में चूक हुई है. वहीं इस पर जवाब देते हुए विनोद सिंह ने कहा है कि वे कटिहार महाशिवरात्रि मनाने के लिए लौटे थे न कि वेलेंटाइन डे मनाने के लिए. उन्होंने कहा कि मैं शारीरिक रूप से भले यहां मौजूद हूं लेकिन मेरा मन शहीद जवान के परिवार के साथ है. मैं इसपर कोई राजनीतिक टिप्पणी नहीं करना चाहता लेकिन जल्द ही जवान के परिवार से जाकर मुलाकात करूंगा. गौरतलब है कि बिहार के रहने वाले आरपीएफ जवान मुजाहिद खान ने जम्मू कश्मीर के करन नगर में हुए आतंकि हमले में जान गवां दी थी जिसके बाद उनके शरीर को उनके गांव लाया गया. लेकिन उनके अंतिम संस्कार के समय नीतीश सरकार का एक भी नेता वहां उपस्थित नहीं था.

उमा भारती का बयान- पाकिस्तान के जम्मू-कश्मीर में हमले के वक्त नेहरू ने मांगी थी RSS से मदद

शहादत पर सियासत करने वालों को भारतीय सेना का जवाब- शहीदों का कोई धर्म नहीं होता