पटना: बिहार के ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव विवादों में घिरते नजर आ रहे हैं. रविवार को कटिहार में हुई मुस्लिम नेताओं की एक कॉन्फ्रेंस में उन्होंने मुस्लिम टोपी पहनने से मना कर दिया. जेडीयू ने तय कार्यक्रम के मुताबिक कटिहार में तालिमी बेदारी कॉन्फ्रेंस का आयोजन कराया था. बिजेंद्र यादव नीतीश कुमार की कैबिनेट में सुशील कुमार मोदी के बाद तीसरे सबसे वरिष्ठ मंत्री माने जाते हैं. वह इस कॉन्फ्रेंस में मुख्य अतिथि थे. जब आयोजक ने यादव को मुस्लिम टोपी पहनाने की कोशिश की तो उन्होंने उसे हाथों में लेकर अपने असिस्टेंट को दे दी. रिपोर्ट के मुताबिक यादव के एेसा करने से वहां मौजूद कई मुस्लिमों पर नाराजगी जताई और मुस्लिम टोपी न पहनने पर विरोध-प्रदर्शन भी किया. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है.

मंत्री के इस बर्ताव पर राजनीतिक चर्चाएं गर्म हो गई हैं, क्योंकि साल 2011 में सद्भावना व्रत के दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी पर नीतीश कुमार ने मुस्लिम टोपी न पहनने को लेकर निशाना साधा था. यादव के मुस्लिम टोपी न पहनने पर प्रतिक्रिया देते हुए HAM (S) प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा, जेडीयू अब पूरी तरह से आरएसएस की विचारधारा की गिरफ्त में है. नीतीश कहा करते थे कि टोपी और तिलक दोनों धारण करनी चाहिए. अब नीतीश को अपने मंत्री से पूछना चाहिए कि उन्होंने टोपी क्यों नहीं पहनी.

देखें वीडियो: 

इस मामले पर जेडीयू एमएलसी तनवीर अख्तर ने कहा कि मंत्री ने टोपी इसलिए नहीं पहनी क्योंकि समारोह में काफी गर्मी थी. इस समारोह में यादव के साथ अख्तर भी मौजूद थे. उन्होंने कहा, दोपहर करीब 12.30 बजे मंच पर मौजूद लोग गर्मी से बेहाल थे. उन्होंने कहा कि यादव ने आयोजकों द्वारा दिया गया गमछा स्वीकार कर उसे कंधे पर डाल दिया था.

गुरुग्राम में दुकान के हिंदू भाई चिकन शॉप नाम से भड़के लोगों ने मचाया हंगामा, केस दर्ज

अयोध्या रामजन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद जानिए कब और कहां शुरू हुआ पूरा मामला, ये है पूरा इतिहास

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर