बागपत: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किसानों से कहा है कि वे गन्ने की खेती छोड़कर अन्य फसलों की उगाई पर ध्यान दें क्योंकि चीनी के ज्यादा उत्पादन से खपत बढ़ती है, जिससे मधुमेह होता है. मंगलवार को बागपत में एक जनसभा को संबोधित करते हुए योगी ने यह बात कही, जिसे गन्ने की बंपर फसल के लिए जाना जाता है.

योगी ने कहा, ”किसानों को सिर्फ गन्ना उगाने की जगह अन्य फसलों जैसे सब्जियों पर ध्यान देना चाहिए. चीनी के ज्यादा उत्पादन से खपत ज्यादा होती है और नतीजन लोगों को मधुमेह हो जाता है. आप (किसान) लोग बहुत ज्यादा गन्ना उगा रहे हैं.”सीएम योगी ने कहा, “गन्ना किसानों के 10 हजार करोड़ जल्द ही चीनी मिलों द्वारा चुका दिए जाएंगे. अगर वे (चीनी मिल) किसानों का बकाया नहीं चुकाते तो उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने होंगे. बकाये के निपटारे के लिए हमने सभी जरूरी तैयारियां कर ली हैं.”

किसानों का बकाया बीजेपी सरकार के लिए बड़ी मुसीबत साबित हो रहा है क्योंकि बीजेपी सरकार आरएलडी उम्मीदवार के हाथों 44000 वोटों से कैराना उपचुनाव हार गई थी और इसके पीछे बकाया राशि सबसे अहम मुद्दा था. 2019 के लोकसभा चुनावों को देखते हुए बीजेपी गन्ना किसानों को नाराज करने के मूड में नहीं है. लिहाजा वह जल्द से जल्द 10 हजार करोड़ का बकाया किसानों को चुकाने की कोशिश में लगी है.

इससे पहले  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भारत बंद को लेकर विपक्ष पर निशाना साधते हुए सोमवार को कहा था कि यदि वे इसी तरह नकारात्मक भूमिका अपनाए रहे तो आने वाले दिनों में वे विपक्ष में भी बैठने लायक नहीं बचेंगे और विपक्ष के रूप में उनका महत्व भी खत्म हो जाएगा. 

उन्होंने कहा था, “विपक्ष का यह भारत बंद उनकी हताशा और निराशा को दिखाता है. आज जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कल्याणकारी योजनाओं का लाभ गांव, गरीब, महिला, किसान व नौजवानों को मिल रहा है तो इससे निराश विपक्ष से इससे ज्यादा की उम्मीद नहीं की जा सकती. भगवान उनको सद्बुद्धि दें.”

यूपी टीचर भर्ती घोटाला: एक्शन में योगी आदित्यनाथ सरकार, सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी सुत्ता सिंह सस्पेंड

यूपी: जेवर एयरपोर्ट का रास्ता साफ, 2,357 किसानों ने दी जमीन