नई दिल्ली/ उत्तरप्रदेश के बागपत के रमाला थाना में हसनपुर जीवनी गांव के डेढ़ दर्जन से ज्यादा लोगों ने रविवार को देर रात रमाला थाने में घुसकर पुलिस पर हमला बोला. आरोपियों ने थाने में घुस कई सिपाइयों के साथ मारपीट कर दारोगा की वर्दी फाड़ते हुए दारोगा को घायल कर दिया. थाने में अफरातफरी मच गई. यह सब देख कर फिर पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. तीन आरोपितों को पकड़ लिया, जबकि अन्य आरोपित फरार हो गए. घटना के बाद 13 आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है.

बताते चले कि इस विवाद की शुरुआत हसनपुर जिवानी गांव में रात आठ बजे अंकित पुत्र रमेश चंद शर्मा और सुरेंद्र पुत्र रतन सिंह का रास्ते में बाइक धीरे चलाने को लेकर विवाद से लेकर शुरू हुआ है. जिसके बाद सुरेंद्र ने अंकित के खिलाफ तहरीर दे दी. सुरेंद्र का आरोप है कि अंकित बहुत तेज बाइक चलाता है, उसी चक्कर में अंकित को पुलिस थाने में लेकर आया गया. उस समय थाने में दारोगा योगेश कुमार, दारोगा राजीव कुमार, सिपाही पवन कुमार, संतरी सुधीर कुमार, महिला सिपाही रेनू चौधरी और सिपाही सुधीर पंवार थाने में मौजूद थे. देर रात अंकित के जानने वाले कुछ लोग शराब के नशे में थाने पर पहुंचे और अंकित को छुड़ाने की मांग करते हुए बवाल मचाने लगे. पुलिस के अनुसार उसी दौरान आरोपितों ने सिपाही और दारोगा के साथ मारपीट कर दी.

बता दें कि दारोगा शिव प्रकाश ने बताया कि संदीप, संजीव, सोमदत्त, सुरेशपाल, धीरज, दिनेश, राजकुमार, रमेश चंद शर्मा, विजेंद्र, सुमित और अंकित के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. आरोपित अंकित, सचिन और संजीव को गिरफ्तार कर लिया है. इन सब के दौरान घायल दारोगा का इलाज करवाया जा रहा है.

Param Bir Singh Allegations : परम बीर सिंह के पत्र ने महाराष्ट्र गृह मंत्रालय की छवि को धूमिल किया : शिव सेना

Maharashtra Government Crisis: क्या बच पाएंगी अनिल देशमुख की कुर्सी? आज महा विकास अघाड़ी की बड़ी बैठक

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर