नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी (आप) राष्ट्रीय कनवीनर और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने पंजाब की खुशहाली और किसान आंदोलन की मजबूती के लिए ओर क्या योगदान दिया जा सकता है, बारे में पंजाब के विधायकों के साथ लंबी विचार चर्चा की गई।

रविवार को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद भगवंत मान के नेतृत्व में नेता प्रतिपक्ष हरपाल सिंह चीमा समेत आप विधायकों के साथ मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित यह बैठक करीब 3 घंटे जारी रही।

पार्टी द्वारा जारी बयान के अनुसार इस मैराथन बैठक में अरविन्द केजरीवाल ने जहां 2022 के चुनाव को लेकर विचार-विमर्श की, वहीं किसान आंदोलन की मज़बूती के लिए विस्तार सहित सुझाव मांगे।

अरविन्द केजरीवाल ने सभी विधायकों को विशेष दिशा-निर्देश देते कहा कि पार्टी के झंडे और एजंडे को एक तरफ़ रख कर किसानों के आंदोलन को हर स्तर पर सहयोग दिया जाए। उन्होंने कहा कि आज देश का अन्नदाता अपनी ज़मीन और अस्तित्व की लड़ाई लड़ने के लिए मज़बूर है, परंतु केंद्र की नरिन्दर मोदी सरकार अपनी ज़िद्द नहीं छोड़ रही, जो निंदनीय है। उन्होंने दोहराया कि केंद्र सरकार को ज़िद्द त्याग कर कृषि विरोधी इन काले कानूनों को तुरंत वापिस लेना चाहिएं और बिजली संशोधन बिल-2021 संसद में पेश नहीं करना चाहिए।

बैठक दौरान दिल्ली सरकार द्वारा केंद्र सरकार के दबाव तले न झुकते हुए किसान आंदोलन को दिए गए सहयोग और संसद में भगवंत मान की ओर से किसानों के हक में लगातार बुलंद की जा रही आवाज़ की भरपूर प्रशंसा की गई।

बैठक में 2022 की पंजाब विधान सभा चुनाव में पंजाब को माफिया राज से हमेशा के लिए मुक्त करवाने के लिए अरविन्द केजरीवाल ने पंजाब के विधायकों और समूची लीडरशिप को सलाह दी कि वह अपनी सकारात्मक लकीर लंबी खींचने पर ध्यान केंद्रित करें। घर-घर पहुंच कर लोगों को बताएं कि आम आदमी पार्टी कौन से विकास मुखी नीतियों के बलबुते गंभीर चुनौतियों का सामना कर रहे पंजाब और पंजाबियों को संकट से बाहर निकाल सकती है और पंजाब को फिर से खुशहाल पंजाब कैसे बना सकती है। इसके साथ ही केजरीवाल ने दिल्ली के विकास माडल की कई मिसालें पंजाब लीडरशिप को दी।

केजरीवाल ने कहा कि बादलों-भाजपा और कांग्रेसियों के माफिया राज के बारे में पंजाब का बच्चा-बच्चा भलिभांति जानता और जागरूक है। लोग इनका बोरिया बिस्तर गोल करने के लिए तत्पर हैं। इस लिए लोगों को आम आदमी पार्टी के रचनात्मिक प्रोग्रामों के साथ जोड़ा जाए और जागरूक किया जाए।

बैठक के दौरान अरविन्द केजरीवाल ने सभी विधायकों से उनके हलकों की बूथ स्तर तक की जानकारी ली। इस दौरान भगवंत मान ने पंजाब के राजनैतिक आर्थिक और सामाजिक हलातों के बारे में विस्तार सहित जानकारी दी।

इस मौके पंजाब मामलों के इंचार्ज जरनैल सिंह और सह-इंचार्ज राघव चड्ढा, नेता प्रतिपक्ष हरपाल चीमा और उप नेता सरबजीत कौर माणूंके, कुलतार सिंह संधवां, गुरमीत सिंह मीत हेयर, प्रिंसिपल बुद्धराम, अमन अरोड़ा, प्रो.बलजिन्दर कौर, जै कृष्ण सिंह रोड़ी, मनजीत सिंह बिलासपुर, रुपिन्दर कौर रूबी, कुलवंत सिंह पंडोरी, मास्टर बलदेव सिंह जैतो, अमरजीत सिंह सन्दोआ (सभी विधायक) मौजूद थे।

CBSC Results 2021: सीबीएसई 10वीं के नतीजे घोषित, 99.04% पास, यहां देखें रिजल्ट

Tokyo Olympic 2020: हॉकी में भारत का सफर खत्म, सेमीफाइनल में भारत को 5-2 से हराकर बेल्जिम पहुंचा फाइनल में

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर