रायपुर. छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन के बीच शराब की होम डिलीवरी के लिए शुरू किए ऐप पर खूब बिक्री हो रही है। पहले ही दिन लोगों की इतनी भीड़ बढ़ी कि ऐप क्रैश हो गया।

ऑनलाइन शराब बिक्री शुरू होते ही सिर्फ 1 घंटे के भीतर ही राजधानी रायपुर में ही 50 हजार से ज्यादा ऑर्डर बुक किये गए। यहां तक तो ठीक था, लेकिन दो घंटे के भीतर ही शराब की इतनी बुकिंग की गई कि छत्तीसगढ़ सरकार का एप की ओवरक्राउड होने के कारण क्रैश हो गया। जब यह ऐप क्रैश हुआ तो लोग इसे ठीक करने की मांग करने लगे। हालांकि बाद में इसे ठीक तो किया गया लेकिन फिर इस ऐप पर डिमांड बढ़ गई। नतीजा यह हुआ कि दोपहर होते-होते इस पर फिर लोड बढ़ गया और ऐप दोबारा क्रैश हो गया।

आबकारी विभाग के अधिकारी ने कहा, ‘लॉकडाउन के दौरान शराब का अवैध उत्पादन, बिक्री, परिवहन को रोकने के लिए सोमवार से ऑनलाइन ऑर्डर पर होम डिलिवरी की अनुमति दी गई है।’ अधिकारी के मुताबिक शराब की होम डिलिवरी के लिए सुबह नौ बजे से रात के आठ बजे तक की समय सीमा तय की गई है।

विपक्ष ने खड़े किए सवाल

भाजपा नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धर्मलाल कौशिक ने कहा, ‘राज्य सरकार का फैसला दिखाता है कि उसे लोगों के स्वास्थ्य की चिंता नहीं है। कोविड-19 मरीजों के इलाज की सुविधा जुटाने पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय वह शराब परोसने को प्राथमिकता दे रही है।’

सरकार का तर्क

छत्तीसगढ़ सरकार का कहना है, इससे शराब के नाम पर जहरीली या नकली शराब का खतरा खत्म होगा।छत्तीसगढ़ के आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा, ‘हमारी पुलिस लगातार अवैध शराब को रोकने की कोशिश कर रही है. छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन की वजह से शराब की दुकानें बंद होने की वजह से लोग दूसरा चीज पी रहे हैं। जिसकी वजह से हमने ये फैसला किया।

Arvind kejriwal on Covid-19 : अरविंद केजरीवाल बोले-अब तक सफल रहा लॉकडाउन, कोरोना की दूसरी लहर अब खत्म हो रही है, वैक्सिनेशन तेज करना होगा

Women Molest In Hospital : बिहार में कोरोना महामारी में डॉक्टर की शर्मनाक करतूत, इलाज कराने गई महिला से की जबरदस्ती की कोशिश

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर