नई दिल्ली. आंध्र प्रदेश के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू को लोकसभा और विधानसभा चुनाव नतीजों के बाद एक बार फिर बड़ा झटका लगा है. नायडू की तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के 4 राज्यसभा सांसद वायएस चौधरी, सीएम रमेश, टीजी वेंकेटेश और जीएम राव बीजेपी में शामिल हो गए हैं. टीडीपी के तीन राज्यसभा सांसदों ने भारतीय जनता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी में भाजपा का हाथ थामा है. हालांकि, सांसद जीएम राव खराब सेहत के चलते इस दौरान मौजूद नहीं रहे, वे बाद में औपचारिक रूप से पार्टी में शामिल होंगे.

आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने चारों राज्यसभा सांसदों के पार्टी छोड़ने के बाद कहा कि उन्होंने राज्य को विशेष दर्जा दिलाने और राज्य के हितों के लिए भाजपा से लड़ाई की. चंद्रबाबू नायडू ने आगे कहा कि हमने टीडीपी को कमजोर करने के लिए बीजेपी के प्रयासों की निंदा करते हुए विशेष दर्जे के लिए केंद्रीय मंत्रियों की बलि दी. उन्होंने कहा कि पार्टी के लिए कोई संकट या कोई नई बात नहीं है, कैडर और नेताओं के लिए घबराने की कोई बात नहीं है.

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो टीडीपी में यह हलचल उस दौरान मची है जब चंद्रबाबू नायडू अपने परिवार के साथ यूरोप मे छुट्टियां मना रहे हैं. एक दिन पहले ही चंद्रबाबू नायडू अपने पत्नी, बेटे, दामाद और पोते के साथ यूरोप के लिए रवाना हुए थे जो 26 जून को वापस लौट रहे हैं. इस बीच ही उनके चार राज्यसभा सांसद ने जेपी नड्डा के साथ उपराष्ट्रपति और सदन के सभापति वैंकेया नायडू को अपना इस्तीफा सौंपकर एक प्रस्ताव पारित कर राज्यसभा में टीडीपी को भाजपा में विलय कर दिया है.

राज्यसभा में टीडीपी के पास 6 सदस्य हैं जिनमें 4 यानी दो तिहाई से ज्यादा सदस्यों ने मिलकर बीजेपी में टीडीपी का विलय कर लिया है. दरअसल, दलबदल विरोधी कानून के अनुसार, किसी भी राजनीतिक दल से अलग हुए नए गुटों को तभी मान्यता मिलती है, जब उसके दो तिहाई सदस्य उस गुट में शामिल हो जाएं. राज्यसभा में कुल 245 सांसद हैं जिसमें सर्वाधिक 71 सदस्य बीजेपी के हैं.

Jagan Mohan Reddy YSRCP ousts Congress Chandrababu Naidu TDP in Andhra Pradesh: आंध्र प्रदेश में जगनमोहन रेड्डी की वाईएसआर कांग्रेस की बड़ी जीत, कांग्रेस गायब, चंद्रबाबू नायडु की टीडीपी का सफाया

One Nation One Election All Party Meeting: एक राष्ट्र एक चुनाव पर ऑल पार्टी मीटिंग में सर्वदलीय कमेटी बनाने का फैसला, रिपोर्ट पर तय होगा भविष्य