अहमदाबाद. Alpesh Thakor Lost Radhanpur Seat Bye Election: राजनीति में कई बार ज्यादा उछलने से मुंह की खानी पड़ती है और यही हाल गुजरात के ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर के साथ हुआ. जनाब कांग्रेस और गुजरात विधानसभा से इस्तीफा देकर बीजेपी में गए और राधनपुर सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी कैंडिडेट के रूप में किस्मत आजमाई. लेकिन आज जब रिजल्ट आया तो वह राधनपुर विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी के हाथों हार गए. कांग्रेस प्रत्याशी रघुभाई देसाई ने अल्पेश ठाकोर को 3000 से ज्यादा मतों के अंतर से हरा दिया.

राधनपुर सीट पर ही साल 2017 में अल्पेश ठाकोर ने कांग्रेस टिकट पर चुनाव लड़ा था और ओबीसी नेता के रूप में देशभर में वह फेमस हुए थे, लेकिन समय बदलते ही उनकी विचारधारा भी बदलती गई और वे इस साल बीजेपी में शामिल हो गए. बाद में बीजेपी ने उन्हें राधनपुर से ही चुनाव लड़ाया, लेकिन अल्पेश ठाकोर की कांग्रेस प्रत्याशी के हाथों करारी हार हुई. ऐसे में अल्पेश ठाकोर को न माया मिली और न ही राम.

मालूम हो कि अल्पेश ठाकोर साल ने 2017 के चुनाव में कांग्रेस को 81 सीट दिलाने वालों में से एक थे. बाद में अल्पेश ठाकोर ने कांग्रेस पर भेदभाव का आरोप लगाया और इस साल पार्टी से इस्तीफा दे दिया. बाद में वह बीजेपी से जुड़े और कांग्रेस प्रत्याशी से हार गए. आपको बता दूं कि साल 2017 के विधानसभा चुनाव में गुजरात में कांग्रेस ने बेहतर प्रदर्शन किया था और 81 सीटें जीती थीं. हालांकि वह सरकार बनाने से काफी दूर रही, लेकिन बीते कुछ वर्षों के दौरान गुजरात में पार्टी का प्रदर्शन बेहतर हुआ है.

Also read ये भी पढ़ें- आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाने की मांग के साथ शिवसेना पलट सकती है महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव का खेल, बीजेपी को छोड़कर कांग्रेस-एनसीपी के साथ सरकार बनाने का मौका

BJP Loss Saves EVM Credibility: हरियाणा में बीजेपी को भारी नुकसान से बची चुनाव आयोग की इज्जत और EVM का सम्मान

Dushyant Chautala JJP Profile: जगन मोहन रेड्डी की तर्ज पर हरियाणा में चमके दुष्यंत चौटाला, जेजेपी अध्यक्ष में लोकदल चीफ चौधरी देवीलाल की परछाई देख रहे जाटलैंड के वोटर्स

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App