जयपुर: हनीट्रैप केस में फंसे ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह के बाद खबर है कि सेना के एक और बड़ा अधिकारी पाकिस्तानी साजिश का शिकार हुआ है. सेना की इंटेलीजेंस विंग ने सेना के लेफ्टिनेंट कर्नल को शक के आधार पर हिरासत में लिया है. बताया जा रहा है कि संदिग्ध लेफ्टिनेंट कर्नल राजस्थान के जबलपुर में कार्यरत थे. सूत्रों के मुताबिक हिरासत में लिए गए लेफ्टिनेंट कर्नल का नाम मनवीक सिंह है. मनवीक सिंह की पत्नी भी सेना में है.

सूत्रों के मुताबिक लेफ्टिनेंट कर्नल मनवीक सिंह के अकाउंट में बड़ी मात्रा में फंड ट्रांस्फर होने के बाद से वो इंटेलिजेंस विंग के रडार पर थे. आरोप है कि उन्होंने पैसे मिलने के बाद कुछ कागजात मेल के जरिए लीक की. जानकारी के मुताबिक इंटेलिजेंस को उनकी भेजी गई मेल में कुछ अटेंचमेंट फाइलें भी मिली हैं. फिलहाल लेफ्टिनेंट कर्नल मनवीक सिंह सेना के इंटेलिजेंस विंग की हिरासत में हैं. सेना ने मामले की छानबीन शुरू कर दी है. कर्नल मनवीक सिंह की पत्नी भी सेना में है, ऐसे में जांच की सूई उनतक भी पहुंच सकती है.

पिछले 15 दिनों के भीतर सेना में ISI की सेंधमारी की ये दूसरी घटना उजागर हुई है. इससे पहले ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह को गिरफ्तार किया गया था जिनपर आरोप लगा था कि पाकिस्तान की खूफिया एजेंसी ISI द्वारा फैलाए गए हनीट्रैप के जाल में फंसकर उन्होंने सेना की सीक्रेट इंफॉरमेशन दुश्मनों को दी. लेकिन इस बार मामला दूसरा है. इस बार लेफ्टिनेंट कर्नल पर पैसे लेकर खूफिया जानकारी देने का आरोप है.

 पढ़ें- सुंजवान हमले में घायल हुए बहादुर मेजर अभिजीत ने होश में आते ही पूछा- आतंकियों का क्या हुआ?