पाकुड़. भारतीय जनता पार्टी- बीजेपी युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने सामाजिक कार्यकर्ता और आर्य समाज के नेता स्वामी अग्निनेश को झारखंड के पाकुड़ में बुरी तरह पीट डाला. बीजेपी-बीजेवाईएम कार्यकर्ताओं द्वारा पिटाई के बाद चोटिल हुए स्वामी अग्निवेश को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. अस्पताल में इलाज करा रहे स्वामी अग्निवेश ने मीडिया को दिए बयान में कहा कि ”मैं झारखंड को एक शांतिप्रिय राज्य समझता था लेकिन इस घटना के बाद मेरे विचार बदल गए हैं.”

इस घटना के बारे में बताते हुए स्वामी अग्निवेश ने कहा, “जैसे ही मैं कार्यक्रम स्थल से बाहर आया, बीजेवाईएम और एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने अचानक से मुझपर हमला कर दिया. हमलावरों ने आरोप लगाया कि मैं हिंदुओं के खिलाफ बात कर रहा था. स्वामी अग्निवेश ने आगे कहा कि वहां कोई पुलिसकर्मी मौजूद नहीं था. यहां तक कि मैंने बार-बार एसपी और डीएम को कॉल करता रहा लेकिन वे नहीं आए. मुझे बताया गया था कि एबीवीपी और बीजेपी युवा मोर्चा कार्यकर्ता विरोध करना चाहते हैं. मैंने उनसे कहा कि विरोध करने की कोई जरूरत नहीं है, वे अंदर आ सकते हैं और बात कर सकते हैं. उस समय कोई भी नहीं आया, जब मैं वहां से निकल गया, तो अचानक उन्होंने मुझ पर हमला कर दिया. मैं चाहता हूं कि हमलावरों को सीसीटीवी फुटेज और मीडिया के पास उपलब्ध वीडियो से पहचाना जाए और उनके खिलाफ अटैम्ट टू मर्डर की कार्रवाई की जाए.”

इस घटना के बाद झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने स्वामी अग्निवेश की पिटाई की जांच के आदेश दिए हैं. स्वामी अग्निवेश पहाड़िया आदिवासियों के एक बड़े कार्यक्रम में हिस्सा लेने पाकुड़ गए हुए. यहां वे एक होटल में ठहरे हुए थे जिससे बाहर निकलते ही भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा और एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने उनपर हमला कर दिया. हमलावर होटल के बाहर धरना और प्रदर्शन कर रहे थे.

स्वामी अग्निवेश जैसे ही कार्यक्रम में जाने के लिए होटल से बाहर निकले उन्होंने झुंड बनाकर उनपर हमला कर दिया. उनके कपड़े फाड़ दिए, पगड़ी उछाल दी और गिरा-गिराकर बुरी तरह पीटा. इस मामले के वीडियो सामने आए हैं जिसमें भाजपा कार्यकर्ता पाकिस्तानी एजेंट स्वामी अग्निवेश गो बैक, भारत में रहना है तो वंदे मातरम कहना होगा जैसे नारे लगा रहे हैं. इसके साथ ही उनका आरोप है कि स्वामी अग्निवेश मिशनरियों के आदेश पर आदिवासियों को बरगला रहे हैं.

स्वामी अग्निवेश पिटाई: झारखंड के पाकुड़ में बीजेपी युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं ने वंदे मातरम बोलकर अग्निवेश को पीटा, अस्पताल में भर्ती

मॉब लिंचिंग पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश- भीड़ को हिंसा की इजाजत नहीं, संसद कानून बनाए, राज्य गाइडलाइंस लागू करें