दमोहः देश में इस समय रेप-गैंगरेप के कई मामले सामने आने से हाहाकार मचा हुआ है. कठुआ, उन्नाव, सूरत, इंदौर और भी न जाने कितने शहरों में इस तरह की घिनौनी वारदातें हर रोज सुर्खियां बन रही हैं. इंदौर में भी बीते शुक्रवार एक 8 साल की बच्ची की रेप के बाद हत्या कर दी गई. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नाबालिग बच्चियों से बढ़ते अपराधों पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि वह चाहते हैं कि रेप के दोषियों को फांसी की सजा हो.

सीएम चौहान ने कहा, ’92 फीसदी मामलों में नाबालिग बच्चियां रिश्तेदारों द्वारा ही हैवानियत का शिकार होती हैं. मुझे सदमा लगा कि एक नाबालिग बेटी से उसके पिता ने ही रेप किया. मैं बिल पास करने की अपील करता हूं जिससे रेप के दोषियों को फांसी की सजा मिले.’ बता दें कि शनिवार को केंद्र सरकार दो महत्वपूर्ण अध्यादेश ला सकती है. सरकार पॉक्सो एक्ट में बदलाव का अध्यादेश ला सकती है. इसमें 12 साल तक की नाबालिग से रेप के दोषी को फांसी की सजा का प्रावधान जोड़ा जाएगा. पॉक्सो एक्ट में अभी तक कम से कम 7 साल की सजा और अधिकतम आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान है.

बता दें कि कठुआ मामले में दो पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने के बाद बवाल मचा हुआ है. पुलिस की चार्जशीट में बच्ची से गैंगरेप के बाद उसकी हत्या करने की बात कही गई है, जबकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बच्ची से दुष्कर्म की बात से इनकार किया गया है. दूसरी ओर यूपी के उन्नाव में एक युवती ने बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उसके गुर्गों पर गैंगरेप का आरोप लगाया है. सीबीआई इस मामले की जांच कर रही है. पीड़िता ने इंसाफ न मिलने पर सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ के आवास के बाहर आत्मदाह करने का भी प्रयास किया था. इसके अगले दिन पीड़िता के पिता की संदिग्ध हालात में मौत हो गई.

पीआईएल से नाराज सुप्रीम कोर्ट ने वकील से पूछा- क्या आपका कोई रिश्तेदार है, जिससे बलात्कार हुआ हो

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App