भोपाल. मध्य प्रदेश में सूखे और कर्ज की स्थिति से किसान परेशान हो कर आत्महत्या कर रहे हैं, लेकिन इस मामले पर शिवराज के मंत्री के बेतुके बयान सामने आ रहे हैं.
 
शिवराज सरकार के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री कुसुम महदेले ने कहा कि जवान बेटे की मौत पर कोई किसान आत्महत्या नहीं करता तो फसल चौपट होने पर कैसे कर सकता है, हर मौत को फसल की बर्बादी से जो़डना ठीक नहीं है. 
 
 
कुसुम सोमवार के दिन दमोह जिले के पथरिया विकास खंड के किंद्रहो गांव पहुंचीं थी, जहां किसानों की बातें सुनकर वह भ़डक उठीं. उन्होंने हर किसान की मौत की वजह सूखा और कर्ज बताए जाने पर सवाल उठाया. साथ ही सवाल किया कि क्या जवान बेटे की मौत पर कोई किसान आत्महत्या करता है. जब ऐसा नहीं है तब फसल की बर्बादी पर कोई ऐसा कदम कैसे उठा सकता है. यह सुनकर वहां मौजूद किसान स्तब्ध रह गए.