बाडमेर : बाड़मेर जिला कलेक्टर ने खुला शौच मुक्त (ओडीएफ) बनाने के लक्ष्य के साथ एक योजना शुरू की है, जिसके तहत जो भी ग्रामीण अपने घर में शौचालय बनाता है और इसे नियमित रूप से उपयोग करता है, उसे कलेक्टर के साथ कॉफी पाने का मौका मिलेगा. इसके अलावा डीएम खुद उसे जिला मुख्यालय में सम्मानित करेंगे. 
 
बाड़मेर कलेक्टर शिव प्रसाद नाकाते के अनुसार उन्होंने 17 दिसंबर तक जिले को पूरी तरह से ओडीएफ बनाने का लक्ष्य रखा है. वह ग्रामीणों से शौचालय बनाने और उन्हें इस्तेमाल करने के लिए चौपाल में अनुरोध करते हैं. आंकड़ों के अनुसार बाड़मेर में 489 ग्राम पंचायतों में से अभी तक केवल 173 ओडीएफ हैं. उन्होंने कहा कि 15 अगस्त तक, दो पंचायत समिति, बट्टू और गिडा, ओडीएफ बन जाएंगे. पतिदु और शिर्डी पंचायत समिति इसके बाद इस कैटेगरी में शामिल होंगे.
 
डीएम ने बताया कि पंचायत में जहां पानी की समस्या है, मनरेगा के तहत वहां पानी के टैंकों और भंडारण सुविधाओं के निर्माण की मंजूरी दी गई है. नाकाते ने कहा कि उन्होंने  योजना शुरू कर दी है, जिसके तहत किसी भी गाँव में शौचालय तैयार किया जाता है और नियमित रूप से इसका इस्तेमाल किया जाता है.
 
नाकाते ने कहा कि गांव वाले को सम्मान के साथ देखा जाएगा जो दूसरों को प्रेरित करेगा. इसके अलावा, शौचालयों का उपयोग सुनिश्चित करने के लिए, पहले से ही एक योजना बाड़मेर में चल रही है जो कि बट्टू और गीदा पंचायत समितियों के लाभार्थियों को प्रोत्साहन देती है. कुछ समय पहले केयर्न ऑयल एंड गैस और ग्रामीण विकास संगठन ने योजना शुरू की थी. शौचालय के उपयोग पर वे 2-3 महीने तक लाभार्थी के परिवार की निगरानी करते हैं. उचित उपयोगिता सुनिश्चित करने के बाद, लाभार्थी को 2,500 रुपये दिए जाते हैं.