कोलकाता : दार्जिलिंग में अलग राज्य की मांग को लेकर 3 लोगों के मारे जाने के बाद हिंसा फिर भड़क गई है. गोरखालैंड समर्थकों ने टीएमसी के ऑफिस और एक पुलिस की गाड़ी को जला दिया. फिर हिंसा छिड़ने के बाद पश्चिम बंगाल की ममता सरकार ने सेना को वापस बुला लिया.
 
वहीं पश्चिम बंगाल से अलग राज्य की मांग को लेकर आंदोलन करने वाले गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) ने दावा किया कि पुलिस गोलीबारी में तीन युवकों की मौत हो गई. साथ ही गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने वार्ता के लिए सीएम ममता बनर्जी की पेशकश को ठुकरा दिया.
 
दार्जिलिंग में फिर सेभड़की हिंसा से ममता सरकार की चुनौतियां बढ़ सकती हैं, जो पहले ही नॉर्थ 24 परगना के बशीरहाट में हुई हिंसा से जूझ रही है. बीजेपी जेजीएम की साझेदार है. ममता ने कहा कि दार्जिलिंग में हिंसा पूर्व नियोजित है. हिंसा से विदेशी तार भी जुड़े हैं.
 
 
इस बीच दार्जिलिंग में चल रहा बेमियादी बंद रविवार को 25वें दिन में प्रवेश कर गया. कुछ जरूरी सेवाओं को छोड़कर पहाड़ पर बाजार, स्कूल व कॉलेज सब बंद हैं. उधर आइजी जावेद शमीम का कहना है कि हमारे पास पुलिस फायरिंग की कोई रिपोर्ट नहीं है. मामले की जांच की जा रही है.
SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर