अहमदाबाद:  पेरोल पर इलाज के लिए एक प्राइवेट अस्पताल में लाई गईं साध्वी जयश्री गिरि बुधवार को पुलिस को चकमा देकर अस्पताल से फरार हो गईं. साध्वी ने पुलिसकर्मियों से मॉल में खरीदारी करने और मूवी देखने की इच्छा जताई और उनको भरोसे में लेकर बाथरूम चली गईं. उनकी सुरक्षा में लगे हेड कॉन्स्टेबल जयंतीलाल और महिला कॉन्स्टेबल बेला समेत चार पुलिसकर्मियों को चकमा देकर साध्वी फरार हो गईं.
 
पुलिस की गिरफ्त से साध्वी के फरार हो जाने के चलते जयंतीलाल और बेला सहित कुल 7 को अरेस्ट कर लिया गया है. बता दें कि पालनुपर से गिरफ्तार की गईं साध्वी साबरमती जेल में बंद थीं.
 
 
शॉपिंग मॉल में पुलिस को दिया चकमा:
 
4 जून से 10 जून तक पेरोल पर बाहर आई साध्वी गांधीनगर के सरगासन में रह रही थी कल यानी की 14 जून को साध्वी की पेरोल का आखिरी दिन था. साध्वी ने मेडिकल चेक आप करवाना चाहा, तो पुलिसकर्मी सवेरे 10 बजे साध्वी को इलाज के लिए अस्पताल ले गए. ट्रीटमेंट के बाद वे 11 बजे तक फ्री हो गए. इस बीच साध्वी ने पुलिसकर्मियों को ड्राइव इन रोड स्थित हिमालय मॉल जाने के लिए मना लिया. साध्वी, उनके कुछ सेवकों और सुरक्षा में तैनात किए गए पुलिसकर्मियों ने साथ में शॉपिंग की चेयर मसाज का मजा लिया. इसके बाद उन्होंने ब्लॉकबस्टर मूवी ‘बाहुबली 2’ देखने का फैसला किया.
 
बताया जा रहा है कि शाम 3 बजे साध्वी ने बाथरूम गईं और उसके बाद से वह फरार हैं. इसके बाद सुरक्षा में लगे पुलिसकर्मी घबरा गए और 4 घंटे तक तलाशी के बाद भी साध्वी पुलिस के हाथ नहीं आईं. आखिरकार, शाम 7 बजे उन्होंने कंट्रोल रूम में कॉल कर साध्वी के फरार होने की सूचना दी. पुलिसवालों ने ऐसा इसलिए किया ताकि साध्वी को भगाने का आरोप उन पर न लगे. 
 
पहले ही भागने की योजना बना ली थीं साध्वी:
 
पुलिस की मानें, तो साध्वी ने पहले से ही पेरोल बढ़ाये न जाने की स्थिति में भागने की योजना बना ली थी और इसी के तहत वो लगातार अपने साथियों को फोन कर रही थीं. जैसे ही साध्वी को समाचार मिला की अदालत ने उसकी पेरोल एक्सटेंड करने से मना कर दिया है, साध्वी भागने की फिराक में लग गईं.
 
 
पुलिस के मुताबिक, हिमालय माल से जिस कार में आयी थी उसकी बजाय साध्वी सैंट्रो कार में रवाना हो गईं और कुछ किलोमीटर बाद उन्होंने कार बदल ली. वहीं साध्वी की जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान साध्वी के वकील ने इस बात से खुद को अनभिज्ञ बताया कि साध्वी फरार हो गयी हैं. उन्होंने ये भी कहा की उनकी जानकारी के मुताबिक साध्वी को पुलिस कस्टडी में ले लिया गया है. 
 
साध्वी पर हैं कई आरोप:
 
बता दें कि साध्वी कई मामलों में आरोपी हैं. उनको इसी साल जनवरी में एक फर्जीवाड़े से जुड़े केस में अरेस्ट किया गया था. उनके ठिकाने पर पुलिस छापे में 1.25 करोड़ रुपये और 2.4 किलोग्राम सोना बरामद किया गया था. इतना ही नहीं, 2008 में हुई गुरु और मुक्तेश्वर मठ के प्रमुख संजय गिरि महाराज की हत्या वाले केस में भी साध्वी अभियुक्त हैं. साध्वी को गिरफ्तारी के बाद साबरमती जेल में भेज दिया गया था.
 
गुजरात हाई कोर्ट के निर्देशानुसार, साध्वी को पुलिस एस्कॉर्ट की निगरानी में 10 दिन की पैरोल पर छोड़ा गया था. 4 जून को परोल पर छूटीं साध्वी को साबरमती सेंट्रल जेल में बुधवार को सरेंडर करना था. उन्होंने कोर्ट से परोल की अवधि बढ़ाए जाने की अपील की थी लेकिन इसको खारिज कर दिया गया था.
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर