वाराणसी. वाराणसी के राजघाट पुल पर आज मची भगदड़ में अब तक 25 लोगों की मौत हो चुकी है, जिनमें से 6 की मौत चंदौली के जिला अस्पताल में इलाज के दौरान हुई, वहीं 50 लोग गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं. यह भगदड़ बाबा जय गुरुदेव के कार्यक्रम के दौरान मची. इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए थे. 
 
हादसे का मुख्य कारण अत्यधिक संख्या में लोगों का जमाव था. गरमी व उमस के कारण लोग परेशान थे और जल्दबाजी में थे, इसी दौरान भगदड़ मच गयी. 
 
चंदौली और वाराणसी के बीच गंगा पुल के पास मची भगदड के बाद प्रशासनिक तौर पर डीआईजी लॉ एण्ड आर्डर ने 19 लोगों के मौत की बात कही थी, लेकिन इलाज के दौरान 6 घायल लोगों की मौत हो गई. यह घटना चंदौली व वाराणसी बॉर्डर के पास की है. घायलों को वाराणसी के रामनगर अस्पताल भेजा गया है. दोनों जिलों की पुलिस मौके पर पहुंच कर राहत-बचाव कार्य में लगी है.
 
उत्तरप्रदेश के एडीजी लॉ दलजीत सिंह चौधरी ने 19 लोगों की मौत की पुष्टि की थी. हालांकि एडीजी ने यह भी कहा था कि पांच लोगों की हालत गंभीर है और अस्पताल में भर्ती हैं.
 
मृतकों के परिजनों को मुआवजे का ऐलान
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भगदड़ में मारे गये लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये का मुआवजा देने का एलान किया है.
 
पीएम मोदी ने जताया दुख
घटना के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जताते हुए ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है, ‘वाराणसी में हुई घटना से काफी दुखी हूं, मृतकों के परिजनों के साथ संवेदनाएं हैं, घायलों के लिए प्रार्थना करता हूं.’ उन्होंने लिखा, ‘मैंने अधिकारियों से बात की और हादसे में प्रभावित लोगों को हर संभव मदद सुनिश्चित करने को कहा.’
 
बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी घटना पर दुख जताया है.