नई दिल्ली. नवरात्र के नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा के लिए भारतीय शास्त्रों में अलग-अलग रंगों का वर्णन किया गया है. इनके उपयोग को शुभ माना जाता है. इन रंगों से शरीर में एक अलग तरह की सकारात्मकक ऊर्जा का संचार होता है. इसलिए इस नवरात्र के लिए यहां हम बता रहे हैं हर दिन के हिसाब से नौ रंग. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
पहला दिन- लाल 
नवरात्र के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है. मां को समस्त प्राणियों का रक्षक माना जाता है। इनकी आराधना से आपदाओं से मुक्ति मिलती है. मां का पसंदीदा रंग लाल है और उगते सूरज व रक्त का रंग लाल होता है. लाल कपड़ों में देवी की पूजा व्यक्ति में दृढ़ता पैदा करती है.
 
दूसरा दिन- गहरा नीला
दूसरे दिन मां के ब्रह्मचारिणी स्वरुप को पूजा जाता है. इस दिन गहरा नीला रंग पहनना शुभ माना जाता है. नीला रंग शांति और सुकून का अहसास कराता है. 
 
तीसरा दिन- पीला
नवरात्र के तीसरे दिन देवी चंद्रघंटा की अाराधना की जाती है. इससे भक्तों को आध्यात्मिक सुख और शांति मिलती है. इस दिन पीले रंग के कपड़े पहनना शुभ होता है.
 
चौथा दिन- हरा
नवरात्र में चौथा दिन मां कुशमंडा का होता है औऱ उन्हें लाल साड़ी पहनाई जाती है. इस दिन पर हरा रंग पहनना चाहिए. हरा रंग शांत और संतुलित माना जाता है. यह मन को शांत रखता है. 
 
पांचवा दिन- स्लेटी
पांचवे दिन स्कंदमाता की अराधना की जाती होती है और उन्हें नीली साड़ी पहनाई जाती है. भक्तों को इस दिन स्लेटी रंग के कपड़े पहनने चाहिए.
 
छठा दिन- नारंगी
नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है. देवी को पीली साड़ी में तैयार कर उनकी पूजा की जाती है. इस दिन नारंगी रंग पहनना शुभ माना जाता है.
 
सातवां दिन- सफेद
सांतवें दिन मां कालरात्री को पूजा जाता है. मां को हरी साड़ी पहनाई जाती है और लोगों को सफेद रंग पहनना चाहिए. सफेद रंग सुख समृद्धि का प्रतीक है, यह मानसिक शांति प्रदान करता है.
 
आठवां दिन- गुलाबी
मां दुर्गा का आठवां स्‍वरूप महागौरी का है. देवी के इस स्‍वरूप को हरे रंग के वस्‍त्र पहनाए जाते हैं. इस दिन भक्तों के लिए गुलाबी रंग के वस्त्र पहनना शुभ माना जाता है. गुलाबी रंग भावनात्मक प्यार का सूचक है.
 
नौंवा दिन- आसमानी नीला रंग
नवरात्रि के अंतिम दिन देवी के स‌िद्ध‌िदात्री रूप की पूजा होती है. इस दिन देवी मां का बैंगनी रंग की साड़ी में श्रृंगार किया जाता है. इस दिन भक्तों के लिए आसमानी नीला रंग पहनना शुभ माना जाता है.