नई दिल्ली. एयरटेल और रिलायंस के झगडे में नया मोड़ आ गया है. एयरटेल ने रिलायंस को लताड़ते हुए कहा है कि मौजूदा कॉल ड्राप के लिए रिलायंस खुद जिम्मेदार है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
एयरटेल का कहना है कि  उसने अपनी ओर से  2.5 करोड़ ग्राहकों के लिए जरुरी इंटरकनेक्शन पॉइंट रिलायंस को उपलब्ध करा दिए हैं लेकिन अभी रिलायंस ही अपनी पूरी क्षमता स्थापित नहीं कर पाया है जिसके चलते अभी भी कॉल ड्रॉप्स देखने को मिल रही है.
 
इस बारे में एयरटेल ने 26 सितम्बर को जिओ को पत्र लिख कर कहा कि ‘हमारी इस बारे में द्विपक्षीय बैठक हुई है. इसके बाद हमने इंटरकनेक्टेड लिंक के ट्रैफिक आंकड़ों का अध्ययन भी किया है. इसमें हमने पाया कि आपको हम कुल 3,048 पीओआई मुहैया करा चुके हैं. लेकिन गौर करने वाली बात है कि इसमें 2,484 ही काम कर रहे हैं.’ 
 
इस से साफ़ है कि जिओ पूरी तैयारी के साथ काम नहीं कर रहा है. वहीं रिलायंस इंडस्ट्री की ओर से 18 अगस्त को एक बयान में कहा गया था कि ‘उन्हें कुल 12,500  इंटरकनेक्शन पॉइंट की जरुरत है लेकिन तीनो कम्पनियां उन्हें 1,400  इंटरकनेक्शन पॉइंट ही उपलब्ध करवा रही है. जिसके चलते हमारी 12 करोड़ कॉल फेल हो रही हैं.