चमोली. किसी ने ठीक ही कहा है कि डर के आगे जीत है. जी हां एक ऐसी ही घटना उत्तराखंड के चमोली में सामने आई है. यहां भालू एक महिला को कंधे में उठाकर खेतों में ले गया. लेकिन इसके बावजूद महिला ने हिम्मत दिखाते हुए भालू से मुकाबला किया. आखिरकार भालू इस साठ साल की महिला के आगे घुटने टेक दिए. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रिपोर्ट्स के अनुसार, उत्तराखंड के चमोली गढ़वाल में बसंती देवी अपने घर की रसोई में रोटियां सेक रही थी. इसी बीच एक भालू महिला के अंदर घूस गया और रसोई मे काम कर रही महिला को अपने कंधे पर उठाकर दूर जंगलों में ले गया. इस बीच भालू ने उस महिला पर कई वार किए लेकिन महिला भी अपने बचाव में भालू को बराबर का टक्कर देना शुरू कर दिया. और काफी देर बाद भालू ने महिला के पराक्रम के हार मान ली और चुपचाप निकल लिया.
 
हालांकि काफी जख्मी होने की वजह से महिला रात भर वहीं जंगलों में पड़ी रही. लेकिन सुबह उसकी खोज में निकले उसके बेटे ने महिला को ढूंढकर अस्पताल में भर्ती कराया.
 
अस्पताल प्रशासन के खिलाफ विरोध
वहीं दूसरी ओर गांव वालों में अस्पताल प्रशासन को लेकर भी काफी गुस्सा है. दरअसल, जब महिला को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया तो महिला के शरीर पर कई गहरे घाव थे. इसके लिए टांके लगाने की जरूरत थी, लेकिन अस्पताल में घागा नहीं था, डॉक्टर्स ने लोगों से पहले धागा लाने को कह दिया. इसी वजह से गुस्साए लोगों ने अस्पताल प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया.