पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सूबे में पूर्ण शराबबंदी के बाद शराब कारोबारियों को अजीब सी नसीहत दी है.  नीतीश ने शराब कारोबारियों से खादी को बढ़ावा देने की अपील करते हुए कहा कि जो लोग शराब का धंधा करते थे, वो चरखा ले लें. सूत कातो इससे अच्छी आमदनी होगी. नीतीश ने राष्ट्रीय चरखा दिवस पर उद्योग विभाग की ओर से अधिवेशन भवन में आयोजित समारोह में ये बातें कही.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
खादी कार्यक्रम के मौके पर नीतीश कुमार ने कहा कि कुछ लोग शराबबंदी से दुखी हैं, कह रहे हैं कि वे बेरोजगार हो गये. हमने तो पहले ही कहा था कि जो शराब का कारोबार कर रहे है अगर वो चाहे तो उन्हें दूध की दुकान दी जा सकती है. साथ ही वो खादी का कारोबार करके अच्छी कमाई कर सकते हैं. इससे खादी को भी बढ़ावा मिलेगा साथ ही वो बेरोजगार भी नहीं रहेंगे.
 
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि आज खादी केवल रस्म अदायगी ही रह गयी है. सरकार चाहती है कि ज्यादा से ज्यादा लोग इसका उपयोग करें. सरकार पूरी तरह से मदद करने को तैयार है. सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि गांधी जी के चंपारण सत्याग्रह का 2016, 100वां साल है. इस मौके पर खादी उद्योग का पुनरुद्धार होना चाहिए. सरकार इसके लिए अलग से नीति भी बना रही है. मुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार ने खादी के विकास में 50 करोड़ का प्रावधान रखा है.