नई दिल्ली. व्हाट्सएप के बारे में खबरें आ रही हैं कि इस एप ने अपने पॉलिसिज में बदलाव किया है. जिसके तहत व्हाट्सएप यूज़र्स के मोबाइल नंबर फेसबुक से शेयर हो सकते हैं.  इस खबर के बाद से ही व्हाट्सएप यूज़र्स को अपनी निजी जानकारियों के सार्वजनिक होने का डर सता रहा है. व्हाट्सएप की इस पोलिसी की खबरों के बाद दिल्ली हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई, याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कुछ दिशा निर्देश जारी किए हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि यूजर्स अपने व्हाट्सएप को 25 सितंबर तक डिलीट कर दें. बता दें कि व्हाट्सएप की नई पॉलिसी 25 सितंबर (रविवार) से लागू होगी.  इसी को देखते हुए हाई कोर्ट ने कहा है कि यदि यूज़र्स 25 सितंबर तक अपना व्हाट्सएप अकाउंट डिलीट कर देते हैं तो उनका डाटा फेसबुक के साथ शेयर नहीं होगा. 
 
जबकि यदि यूज़र्स 25 सितंबर के बाद भी व्हाट्सएप का इस्तेमाल जारी रखते हैं तो डाटा फेसबुक के साथ शेयर होने की संभावना है. कोर्ट ने यह भी कहा कि 25 सितंबर तक यूज़र्स का डाटा सुरक्षित रहेगा. बताया जा रहा है कि व्हाट्सएप अपने यूजर्स का मोबाइल नंबर अपनी स्वामित्व कंपनी फेसबुक के साथ शेयर करेगा. जिसकी मदद से व्हाट्सएप यूजर्स फेसबुक के जरिए और भी ज्यादा टारगेट विज्ञापन पा सकेंगे. ये एड फेसबुक पर होंगे. व्हाट्सएप यूजर्स इन दिनों अपने यूजर्स से पूछ रहा है कि वो व्हाट्सएप की जानकारी फेसबुक के साथ साझा करना चाहते हैं या नहीं.