चंडीगढ़. आपने रोजमर्रा की जिन्दगी में इस्तेमाल करने वाली चीजों से बनी कई चीजों को देखा होगा. लेकिन हम यहां आपको एक ऐसी घड़ी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे सुनकर एक बार के लिए आप भी हैरान रह जाएंगे. यह घड़ी ना तो प्लास्टिक, ना मिट्टी और ना ही किसी मेटक की बनी है, बल्कि इस घड़ी को गाय के गोबर से तैयार किया गया है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दरअलस, इस तरह की अनोखी घड़ियां चंडीगढ़ के सेक्टर-15 के लाला लाजपत राय भवन में लगी मृगनयनी प्रदर्शनी में दिखाई दी है. इस प्रदर्शनी गोबर से बनी सिर्फ घड़ी ही नहीं बल्कि कई तरह के डेकोरेशन के सामान, फ्लावर पोट और भगवान की मूर्तियां भी देखने को मिली है,जो कि अनोखी होने के साथ- साथ बेहद सुंदर भी हैं.
 
वहीं कारिगरों का कहना है कि इन चीजों को बनाने में केवल भैंसों और गाय के गोबर का ही इस्तेमाल किया गया है. खास बात यह है कि गोबर का इस्तेमाल इन चीजों को बनाने में इसलिए किया जा रहा है ताकि जो गाय दूध नहीं दे रही है. उन गायों का भी इसके जरिए भरण पोषण किया जा सके. बता दें कि करीब 110 गायों की गऊशालाओं में इन चीजों को बनाकर देश के अलग-अलग हिस्सों में बेचा जाता है.