लखनऊः बिहार से मुजफ्फरपुर और यूपी के देवरिया शेल्टर होम केस के बाद अब उत्तर प्रदेश के ही वाराणसी और मिर्जापुर के एडॉप्शन होम से 25 बच्चों के गायब होने का मामला सामने आया है. रिपोर्ट्स के अनुसार पीएम मोदी से संसदीय क्षेत्र वाराणसी स्थित लक्ष्मी शिशु गृह से सात बच्चे गायब हैं वहीं उससे लगे हुए मिर्जापुर से 18 बच्चों के गायब हैं. इस मामले पर महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने डीएम से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. जिसे 15 सितंबर तक जमा करने को कहा गया है.  वहीं इस केस में डीएम और एसडीएम ने जांच के आदेश भी दे दिए हैं. 

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की अतिरिक्त सचिव अजय तिर्की की ओर से भेजे गए पत्र की मुताबिक वाराणसी के लक्ष्मी शिशु गृह से जहां 7 बच्चे गायब हुए हैं जबकि यहां 15 बच्चे थे. बीते 16 मार्च तो जब भारत सरकार की टीम ने यहां निरीक्षण किया तो आठ बच्चे मिले थे, जबकि सात नहीं मिले. गायब हुए इन बच्चों के बारे में लक्ष्मी शिशु गृह से भी कोई ठोस जानकारी नहीं मिल पाई है.

वहीं वाराणसी के अलावा मिर्जापुर के महादेव शिशु गृह का भी निरीक्षण किया गया तो मौके पर 14 बच्चे ही मिले जबकि शिशु गृह में 38 बच्चे थे. संस्था का कहना है कि छह बच्चे शांभवी, मारिया, हनी, शुभम, परी और आशीष की मौत हो गई है. इन बच्चों की मौत 1 अप्रैल 2017 से फरवरी 2018 के बीच हुई. मंत्रालय ने इसके लिए भी जांच के आदेश दे दिए हैं मामले में जिला प्रोबेशन अधिकारी ने बताया कि लक्ष्मी शिशु गृह की मान्यता रद्द कर दी गई है. शिशु गृह में मौजूद बच्चों को लखनऊ भेजा जाएगा. 

यह भी पढ़ें- संकट में बचपनः चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर 1098 के पास तीन साल में आए 1.36 करोड़ साइलेंट कॉल

शेल्टर होम में बच्चियों से बलात्कार मामले में SC ने राज्य सरकार को जमकर लगाई फटकार, पूछा- कितने बच्चे गायब हैं?

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App