भोपाल. मध्यप्रदेश के भोपाल की रहने वाली दिव्यांग लक्ष्मी यादव अब जिंदगी से उब चुकी हैं. यही कारण है कि उन्होंने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर इच्छा मृत्यु की मांग की है.

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

लक्ष्मी का कहना है कि अब वे बहुत अधिक निराश हो गईं हैं और जीना नहीं चाहतीं. पढ़ी-लिखी और काबिल होने के बावजूद उन्हें काफी समय से नौकरी की तलाश थी जो उन्हें अबतक नहीं मिल पाई है. इसी वजह से वे जिंदगी से हार मान गईं हैं. निराशा इतनी बढ़ गई है कि अब वे जीना नहीं चाहतीं. एलएलएम और एमफिल हैं लक्ष्मी.

क्या लिखा है खत में
पीएम मोदी सहित विदेश मंत्री, राष्ट्रपति और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में उन्होने लिखा है, ‘एमफिल, एलएलएम करने के बाद भी मैं घर वालों पर बोझ हूं. मेरी जिंदगी की कोई कीमत नहीं है, इसलिए मैं मरना चाहती हूं. लक्ष्मी का कहना है कि वे सरकार की बेरुखी से बहुत निराश हैं और इसीलिये वे यह कदम उठाना चाहती हैं.

 

लक्ष्मी यादव का कहना है कि दिव्यांगों को तीन प्रतिशत आरक्षण मिलता है और प्रदेश सरकार ने भी उनके लिये कई योजनाएं शुरु की हैं, बावजुद इसके उन्हें किसी भी योजना का लाभ नहीं मिल पाया.