बेंगलुरू. तमिलनाडु और कर्नाटक के बीच कावेरी नदी विवाद में एक बड़ा खुलासा हुआ है. रिपोर्ट के मुताबिक सिर्फ एक प्लेट मटन बिरयानी और 100 रुपए के लिए प्रदर्शन के दौरान 42 बसों को आग के हवाले किया गया था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
एक अंग्रेजी अखबार ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ में छपी खबर के मुताबिक बिरयानी और 100 रुपए की लालच में सी भाग्या नाम की एक लड़की ने बसों को जलाया था. पुलिस ने दो दिन पहले भाग्या सहित 11 लोगों को हिंसा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया है.
 
रिपोर्ट के मुताबिक सीसीटीवी फूटेज में भाग्या को बसों पर पेट्रोल-डीजल छिड़ककर आग लगाते हुए देखा गया है. साथ ही वह अन्य लोगों को भी वह पेट्रोल-डीजल देकर आग लगाने के लिए कह रही थी.
 
बता दें कि जल विवाद पर तमिलनाडु और कर्नाटक में हुए आम लोगों के प्रदर्शन में हिंसा भड़क गई थी. इस  दौरान 42 बसों को जला दिया गया था. उसके बाद पुलिस ने धारा 144 लगा दी थी.
 
कौन है भाग्या ?
भाग्या अपने परिवार के साथ केपीएन गैरेज के पास ही रहती है और मजदूरी करके अपना घर चलाती है. भाग्या की मां के मुताबिक उसे बसों को जलाने के लिए बिरयानी और 100 रुपए का ऑफर दिया गया था. लड़की की हालत ऐसी है कि वह अपना केस लड़ने के लिए वकील का खर्च भी नहीं उठा सकती..