देहरादून. देहरादून में एक ऐसा मर्डर हुआ जिसकी गुत्थी सुलझाने में पुलिस को पूरे 4 महीने लग गए. यह मर्डर क्राइम पेट्रोल शो देखकर उसी स्टाइल में बेहद ही होशियार से किया गया था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अप्रैल 2016 में देहरादून के दोईवाला के जंगल में पुलिस को एक बंद सूटकेस मिला. पुलिस ने जब सूटकेस खोला तो उसमें से एक महिला की लाश मिली. लाश को तेजाब से जला दिया गया था ताकि पहचान न हो सके. कातिल ने इतनी सफाई से मर्डर किया था कि पुलिस को हत्यारे को पकड़ना तो दूर हत्या का कोई सुराग भी नहीं मिल रहा था.
 
कातिल ने सबूत को इस कदर गायब किया था कि पुलिस को इस मिस्ट्री को सुलझाने में पूरे 4 महीने लग गए. पुलिस के मुताबिक कातिल ने पहले महिला की हत्या की फिर तेजाब से महिला के चेहरे को पूरी तरह से जला दिया और कुछ अंगों को भी काट दिया. उसके बाद लाश को सूटकेस में भरकर जंगल में फेंक आया. तेजाब के कारण लाश को पहचानना पुलिस के लिए एक चुनौती थी.
 
लाश मिलने के बाद पुलिस ने हाल फिलहाल में गायब हुए लोगों की रिपोर्ट खंगालने शुरू की. इसी कड़ी में डीएनए के आधार पर पुलिस महिला के मां-बाप तक पहुंची जिसके बाद पता चला कि सूटकेश में बंद लाश इमराना नाम की एक महिला की थी. फिर पुलिस ने इमराना के पति मोहम्मद दानिश को गिरफ्तार किया.
 
दानिश ने जब पुलिस को मर्डर मिस्ट्री सुनाई तो पुलिस के होश उड़ गए. दानिश ने बताया कि उसने क्राइम पेट्रोल देखकर अपनी बीवी की हत्या का प्लान बनाया. 18 अप्रैल की रात को इमराना से उसका झगड़ा हुआ और उसी रात को उसने रस्सी से गला घोंटकर इमराना को मार डाला. उसके बाद लाश को तेजाब से नहला दिया. फिर लाश को सूटकेस में बंद किया और जंगल में फेंक आया. उसके बाद उसने थाने में इमराना के गायब होने की रिपोर्ट भी लिखवाई और सास-ससुर को फंसाने की कोशिश में भी लगा रहा.