अहमदाबाद. अब पुरुष भी सेक्स वर्कर के तौर पर काम करने के लिए अपने हक में आवाज उठा रहे हैं. अखिल भारतीय पत्नी अत्याचार विरोधी संघ ने जिगोलो यानी सेक्स वर्कर के तहत काम करने की मांग की है. इस संघ में ऐसे सदस्य शामिल हैं जो पत्नियों से पीड़ित हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
संघ के अध्यक्ष दशरथ देवड़ा के मुताबिक उनकी संस्था के पुरुष सदस्यों को जिगोलो बनने का लाइसेंस दिया जाए. उनका कहना है कि हर शहर में रेडलाइट एरिया होता है, जहां महिला सेक्स वर्कर के तौर पर काम करती है. ऐसे में पुरुष को भी सेक्स वर्कर के तौर पर काम करने का लाइसेंस मिलना चाहिए.
 
देवड़ा लंबे समय से पत्नी पीड़ित पतियों के अधिकारों के लिए आदोंलन करते आए हैं. उनका का कहना है कि संविधान सभी को बराबरी का अधिकार देता है. इस नाते पुरुषों को भी सेक्स वर्कर बनने का अधिकार कानून के तहत दिया जाए. इसके लिए उन्होंने अहमदाबाद कलेक्टर को आवेदन पत्र भी सौंप दिया है. उनके समर्थन में कई पत्नी पीड़ित पति भी आ गए हैं. जो सेक्स वर्कर बनने की मांग कर रहे हैं.