रायगढ़. ओडिशा के बाद छ्त्तीसगढ़ से इंसानियत को धत्ता बताती तस्वीर सामने आई है. इस तस्वीर ने सरकार के बेरुखे रवैये पर एक बार फिर करार प्रहार किया है. घरघोड़ा इलाके में आकाशीय बिजली गिरने से एक शख्स की मौत हो गई, लेकिन एंबुलेंस नहीं मिलने से शव रिक्शे पर लेकर अस्पताल जाना पड़ा.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बिजली गिरने से हुई मौत के बाद परिजनों ने थाने में शिकायत दर्ज कराई, लेकिन इसके बाद की स्थिति बेहद ही दर्दनाक होती गई. पोस्टमार्टम के लिए शव को अस्पताल ले जाना था लेकिन एंबुलेंस का कोई अता पता नहीं था और न ही पुलिस की ओर से शव को अस्पताल ले जाने के लिए किसी अन्य वाहन का इंतजाम किया गया.
 
सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि प्रशासन ने ईद और गणेशोत्सव का हवाला देते हुए अपनी जिम्मेदारियों से किनारा कर लिया. थक हार कर परिजन शव को रिक्शे पर लेकर नौ किलोमीटर दूर घरघोड़ा के अस्पताल पहुंचे.
 
वहां शव का पोस्टमार्टम हुआ, लेकिन उसके बाद भी लाश को घर ले जाने के लिए अस्पताल की ओर से एंबुलेंस मुहैया नहीं कराया गया. उसके बाद परिजन लाश को खाट पर लेकर घर के लिए रवाना हुए लेकिन वह भी बीच रास्ते में टूट गया. उसके बाद शव को रिक्शे पर घर लाया गया.