मथुरा. मथुरा में बन रहा है दुनिया का सबसे ऊंचा मंदिर इसका नाम है चंद्रोदय मंदिर. इस मंदिर की हाईट 210 मीटर होगी और इस बिल्डिंग में 70 फ्लोर बनाए जाएंगे. बता दें कि इस खास मंदिर को बनाने के लिए अमेरिका से डिजाइनर बनाए गएं है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इस्कॉन सोसाइटी ने वृंदावन में वर्ल्ड के सबसे ऊंचे मंदिर का कंस्ट्रक्शन शुरू कर दिया है. इस चंद्रोदय मंदिर को पिरामिड का डेवेलप्ड फॉर्म कहा जा रहा है. इसकी स्ट्रक्चरल डिजाइनिंग के लिए इस्कॉन सोसाइटी ने अमेरिका की स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग कंपनी थॉर्नटन टोमासेटी की सेवाएं ली हैं. इस मंदिर के कंस्ट्रक्शन का जिम्मा गुड़गांव की इनजीनियस स्टूडियो और नोएडा की क्विनटेसेंस डिजाइन स्टूडियो को सौंपा गया है. 
 
2006 में ही इसके बारे में प्लान किया गया था और 8 साल की तैयारियों के बाद 2014 में नींव रखी गई. प्रोजेक्ट डायरेक्टर दास के मुताबिक इसकी नींव लगभग कुतुबमीनार की ऊंचाई जितनी गहरी खोदी गई है. मंदिर की नींव 55 मीटर जमीन में गहरी होगी और इसका बेस 12 मीटर ऊंचा होगा. कुतुबमीनार की ऊंचाई 73 मीटर है. यानी कि कुतुबमीनार से कुल 6 मीटर कम गहरी है ये माना जा रहा है कि इसका निर्माण 2022 में पूरा हो जाएगा. मंदिर के लिए हाई स्पीड लिफ्ट तैयार की जा रही है.
 
इस मंदिर की सबसे खास बात यह है कि यदि किसी तूफान की वजह से बिल्डिंग एक मीटर झुक भी गई तो भी लिफ्ट सीधी चलती रहेगी. गति और दिशा में परिवर्तन नहीं होगा. 18 एकड़ में 12 वनों के प्रतिरूप होंगे और आर्टीफीशियल यमुना बनेगी.
 
इसमें लोग बोटिंग कर कृष्ण की लीलाओं के बारे में भी जानकारी ले सकेंगे. जहां लोगों को वास्तविक वनों की फील मिलेगी. 12 जंगलों में तालवन (खजूर के वन), भांदिवन (वट वृक्ष वन), वृंदावन (तुलसी का वन) और निधिवन आदि शामिल होंगे.