नई दिल्ली. इंटरकनेक्शन पाइंट्स के मुद्दे पर रिलायंस जियो और एअरटेल के बीच चली आ रही तकरार खत्म हो चुकी है. एअरटेल ने जिओ के सामने झुकते हुए जिओ को इंटरकनेक्शन पाइंट्स देने की हामी भर दी है. जिससे जिओ उपभोक्ताओं की कॉल ड्रॉप की समस्या लगभग समाप्त हो जाएगा. आइडिया पहले ही इसकी घोषणा कर चुका हैं. वहीं जियो ने टेलिकॉम ऑपरेटरों के उन आरोपों को खारिज कर दिया है जिसमें कहा गया था कि जिओ मोबाइल नेटवर्क से ट्रैफिक की ‘सुनामी’ आ जाएगी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
एयरटेल का कहना है कि ये पोर्ट नए आपरेटर के 1.5 उपभोक्ताओं को समर्थन देने के लिए पर्याप्त होंगे. एयरटेल ने अपने बयान में कहा कि हम जियो को इसके कमर्शियल ऑपरेशन शुरू होने से पहले ही पॉइंट आफ इंटरकनेक्ट उपलब्ध करा रहे हैं. इसके साथ ही पीओआई की कुल संख्या मौजूदा पीओआई की संख्या से तिगुना हो जाएगीं. 
 
बता दें कि भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण ने इस मामले को जल्द से जल्द निपटाने की हिदायत दी थी. सोमवार को आइडिया ने जियो को अधिक पीओआई उपलब्ध कराने का ऑफर किया था. आइडिया ने कहा था कि उसने जियो के साथ क्षमता को बढ़ाकर 65 लाख उपभोक्ताओं तक करने का फैसला किया है.