नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली में हैरान करने वाली तस्वीरें सामने आयी है. यहा एक शख्स अपनी पत्नी की लाश को लेकर दिल्ली की सड़कों पर पाँच घंटे तक भटकता रहा. चिकनगुनिया से पीड़ित इसकी पत्नी की मौत सोमवार करीब 8 बजे हुई थी. हालांकि बाद में पुलिस की मदद से पत्नी की लाश को एक घर में रखवाया दिया गया.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रिपोर्ट्स के अनुसार बिहार का रहने वाला छोटे लाल नाम के इस शख्स की पत्नी अंजू चिकनगुनिया की बीमारी से पीड़ित थी. इलाज के लिए उसे पूर्वी दिल्ली के हेडगवार अस्तपताल में भर्ती कराया गया था. जहां अंजू की चिकनगुनिया से मौत हो गई. 
 
छोटेलाल  का आरोप
छोटेलाल ने आरोप लगाते हुए कहा है कि वो पत्नी की मौत के बाद उसकी लाश को 200 रुपए में एक एम्बुलेंस से कड़कडडूमा अपने किराये के घर पर ले गया. लेकिन उसके मकानमालिक और वहा अन्य लोगो ने उसकी पत्नी की लाश को घर में रखने से माना कर दिया. जिसके बाद वो वापिस पत्नी की लाश को एम्बुलेंस में हॉस्पिटल ले गया और पांच घंटे तक दिल्ली की सड़कों पर भटकता रहा.
 
मकानमालिक ने दी सफाई
वहीं दूसरी ओर मकानमालिक देवेंद्र का कहना है कि छोटेलाल के पास अपनी पत्नी के मौत के कोई ऐसे कागजात नहीं थे, जिससे लगे की उसकी मौत बीमारी से हुई है. इसके अलावा उसने यह भी कहा कि हमने उसकी लाश को मोर्चरी में रखवाने के लिए 2000 रुपए छोटेलाल को दिए थे. साथ में अंतिम संस्कार करने की जिम्मेदारी भी ली थी.
 
पहले भी हो चुकी हैं ऐसी घटनाएं
बता दें कि यह कोई पहली घटना नहीं है. इससे पहले भी इलाके में ऐसी घटनाएँ हुई है जब किरायेदारों की मौत के बाद मकानमालिको ने उनकी लाश को घर में रखने से मना किया है.

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर