पेड़ों की कटाई और उनसे जलवायु पर पड़ने वाला प्रभाव आज एक बड़ी समस्या बना हुआ है. कई विशेषज्ञ जंगलों के अस्तित्व पर आ रहे इस खतरे की वजह आधुनिक जीवनशैली को मानते हैं लेकिन अब यही आधुनिक तकनीक जंगलों को बचाने का काम करेगी. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दरअसल अब घने और विशाल जंगलों में ड्रोन के जरिये पेड़ उगाये जायेंगे और इस तरह खत्म होते जंगलों को बचाने की कोशिश की जाएगी. यह ड्रोन DroneSeed नाम की कंपनी द्वारा बनाया गया है. इस कम्पनी द्वारा बनाया गया यह ड्रोन घने जंगलों में जाकर बीज बोन, पेड़ों के विकास में बाधा के तौर पर सामने आने वाली प्रजातियों से निपटने के लिए दवाइयां स्प्रे आदि करने करने का का कर सकेगा. 
 
अपने इस ड्रोन के बारे में कम्पनी का कहना है कि ‘जंगलों को बचाने के लिए जरुरी है कि उन्ही जगहों पर पेड़ उगाये जाएं जहां जंगल प्राकृतिक तौर पर उगे थे. हालांकि इंसानों द्वारा ऐसी जगहों पर पहुंच कर पेड़ उगाना एक लंबी और थकाने वाली प्रक्रिया होगी. ऐसे में यह काम हमारा ड्रोन कर पाएगा.  
 
यह ड्रोन खुद बीज बोकर और पेड़ों की उगने में सहायता कर खत्म होते जंगलों को बचाने की कोशिश करेगा. सभी को उम्मीद है कि इसके जरिये जलवायु  परिवर्तन के प्रभावों को कम किया जा सकेगा. इसके अलावा यह ड्रोन तकनीक लकड़ी के उत्पाद और जीवाश्म ईंधन बनाने में भी मदद करेगी.
 
 इस ड्रोन पर 11 लीटर का एक लिक्विड कंटेनर लगा होगा. इसके अलावा जीपीएस की मदद से यह हर दो सेंटीमीटर के दायरे में बीजों की बौछार करेगा. यह ड्रोन 384 कि.मी की स्पीड से उड़ते हुए भी 800 बीज प्रति घंटे की रफ्तार से बो सकता है और एक बार चार्ज होकर 1.5 घंटे तक लगातार उड़ पाएगा.