लखनऊ. ‘शादी’ जिसको लेकर लोग सात जन्म का साथ कहते हैं लेकिन वह सात जन्म का वादा आपके इस जन्म में टूट के कगार पर हो तो आप क्या कहेंगे. ऐसा ही कुछ हुआ रजौली गांव के रहने वाले 30 वर्षीय युवक प्रदीप कुमार के साथ वह अपनी पत्नी के बेवफाई को झेल नहीं सके और फांसी लगाकर जान दे दी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
 प्रदीप कुमार ने क्यों लगाई फांसी
हंसते-खेलते परिवार को बिखेरने वाली यह घटना बीती रात गुडम्‍बा के रजौली गांव में हुई. रजौली निवासी पन्‍नालाल का बड़ा बेटा प्रदीप कुमार इलेक्‍ट्रीशियन का काम कर पत्‍नी सोनी, बेटे वसु (8) सौरभ (5) समेत पुत्री सौम्‍या (1) का पेट पालता था. गुरूवार की रात वह काम से लौटकर घर में रखे पिता के मोबाइल की कॉल रिकार्डिंग चेक रहा था. तभी उसने गांव के ही युवक से पत्‍नी की हुई अपत्तिजनक बात सुनी तो उसके होश उड़ गए. आपे से बाहर युवक ने पत्‍नी को डांटने के साथ ही शराब‍ पीना शुरू कर दिया.
 
शुक्रवार की देर रात प्रदीप अपने कमरे में पहुंचा और दरवाजा अंदर सें बंद कर लिया. प्रदीप की मंशा भांप घरवालों ने पहले लोहे का दरवाजा खुलवाने और फिर तोड़ने का प्रयास किया लेकिन सफलता नहीं मिली, जिसके बाद आसपास के लोगों की सहायता से दीवार तोड़कर कमरे में पहुंचे तो अंदर पंखे से साड़ी के सहारे प्रदीप का शव लटकता देख परिजनो में रोना-पीटना मच गया.
 
ग्रामीणों ने घटना की जानकारी कंट्रोल रूम को सौ नंबर पर दी. सूचना पर पहुंची गुडम्‍बा पुलिस ने शव को फंदे से उतारकर पोस्‍टमार्टम के लिए भेज दिया. पुलिस घटना की जांच भी कर रही हैं.प्रदीप के छोटे भाई संदीप ने बताया कि भईया को पहले ही भाभी के अवैध संबंध की जानकारी हो गई थी. उन्‍होने उसे बच्‍चों का वास्‍ता देकर काफी समझाया भी था, लेकिन वह नहीं मानी.
 
सोनी के पास मोबाइल नही था. वह मौका देखकर पिताजी के मोबाइल से गांव के एक लड़के से बात करती थी, और फिर नंबर डिलीट कर देती थी. शक होने पर ही भईया ने मोबाइल की कॉल रिकार्डिंग चालू कर दी थी. रिकार्डिंग की जानकारी भाभी को नहीं थी.