दामोह. उड़ीसा के कालाहांडी और बालासोर से आई इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटनाओं ने अभी दम भी नहीं तोड़ा था कि मध्यप्रदेश के दामोह से एक और हृदयविदारक घटना सामने आ गई. यहां बस में पत्नी की मौत के बाद उसके पति, सास और नवजात बच्चे को नीचे उतार दिया गया. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले के घोघरी गांव में रहने वाले राम सिंह की पत्नी मल्ली बाई ने पांच दिन पहले बेटी को जन्म दिया था. प्रसव के बाद से ही मल्ली बाई की तबीयत बिगड़ती जा रही थी. इसलिए राम सिंह उसे इलाज के लिए बस से दमोह ले जा रहा था. रास्ते में ही उसकी पत्नी की सांसें थम गईं. पत्नी की मौत होने के बाद बस के ड्राइवर, कंडक्टर और क्लीनर ने उसे, बूढ़ी मां और पांच दिन की बच्ची को महिला के शव बीच जंगल में उतार दिया.
 
ये परिवार 5 दिन की बच्ची और शव को लिए 8 घंटे तक मदद की गुहार लगाता रहा, लेकिन उनकी मदद के लिए कोई आगे नहीं आया. गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने इसे एक बेहद अमानवीय घटना करार दिया है. उन्होंने बस के ड्राइवर और कंडक्टर का लाइसेंस निरस्त करने और उनके खिलाफ आपराधिक केस दर्ज करने के निर्देश दिए हैं. साथ ही बस का परमिट निरस्त करने को भी कहा है.