बक्सर. दलितों को लेकर कितनी भी बड़ी-बड़ी बातें कर ली जाए लेकिन आज भी दलितों की स्थिति दयनीय ही है. इसका ताजा प्रमाण बिहार के बक्सर में हुई घटना है जहां अपनी गरीबी, भूखमरी और दयनीय स्थिति से परेशान होकर 500 महादलित ने ईसाई धर्म अपना लिया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बक्सर जिले के डुमरांव अनुमंडल के चौंगाई में पांच सौ महादलित हिंदुओं का सामूहिक धर्म परिवर्तन का मामला सामने आया है. इसके बाद बवाल मचा हुआ है. इन सभी 500 महादलितों ने ईसाई धर्म अपना लिया है.
 
इस गांव में शेष बचे महादलित हिन्दुओं पर भी धर्म बदलने का दबाव डाला जा रहा है. इससे पूरे जिले में खलबली मच गई है. आरोप है कि पैसे और बेहतर भविष्य का लालच देकर धर्मांतरण कराया गया है. इससे इस इलाके के लोगों में ईसाई मिशनरियों के खिलाफ आक्रोश है. डीएम रमन कुमार ने पूरे मामले की जांच कराने की बात कही है. 
 
चौंगाई के महादलित गांव में करीब परिवार रहते हैं. इनकी कुल आबादी एक हजार के करीब है. ये आर्थिक व शैक्षणिक रूप से बेहद पिछड़े हैं. इस गांव के आधे परिवार पिछले चार माह के भीतर ईसाई धर्म अपना चुके हैं.
 
आरोप है कि यह काम गोपनीय तरीके से किया जा रहा है और स्थानीय थाना तक को इसकी भनक नहीं लगने दी गई है. हालांकि, अब मामला उजागर होने के बाद पंचायत के प्रतिनिधियों व ग्रामीणों में हडकंप मच गया है.