चंडीगढ़. हरियाणा के सोनीपत जिले में मुरथल में जाट आंदोलन के दौरान कथित बलात्कार की घटनाओं पर राज्य पुलिस ने सोमवार को पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में अपनी स्टेटस रिपोर्ट दायर करते हुए कहा कि इस तरह की कोई घटना नहीं हुई.

स्टेटस रिपोर्ट न्यायमूर्ति एसके मित्तल और न्यायमूर्ति एचएस सिद्धू की पीठ के समक्ष दायर की गई. पुलिस की तरफ से दायर स्थिति रिपोर्ट में ‘सोनीपत जिले के मुरथल में 22-23 फरवरी की रात छेड़छाड़ और सामूहिक बलात्कार के आरोपों को खारिज किया गया.

खंडपीठ ने मामले में सुनवाई की अगली तारीख 14 मार्च रखी है. अदालत ने कथित आरोपों के बारे में एक स्थानीय दैनिक में छपी खबर के बाद मामले में स्वत: संज्ञान लिया था. पीठ ने मामले में अदालत की मदद के लिए वरिष्ठ अधिवक्ता अनुपम गुप्ता को अदालत मित्र नियुक्त किया था.

सुनवाई के दौरान अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) मोहम्मद अकील और आरोपों की जांच कर रही तीन महिला पुलिस अधिकारियों की टीम की प्रमुख उपमहानिरीक्षक राजश्री सिंह भी मौजूद थीं.

महिला ने दर्ज कराया मामला

हरियाणा के मुरथल के पास जाट आंदोलनकारियों पर बलात्कार और छेड़छाड़ के आरोप लगने के कुछ दिन बाद कल एक महिला सामने आई और घटना के संबंध में अपने देवर सहित सात लोगों के खिलाफ सामूहिक बलात्कार का मामला दर्ज कराया.

हरियाणा पुलिस की उपमहानिरीक्षक राजश्री सिंह ने कहा था, ‘‘नरेला निवासी एक महिला की शिकायत के आधार पर सामूहिक बलात्कार की घटना के संबंध में सात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।’

उन्होंने कहा कि महिला ने आरोप लगाया है कि 22-23 फरवरी की रात उससे बलात्कार किया गया और आरोपियों में उसका देवर भी शामिल है. अधिकारी ने कहा कि हालांकि महिला द्वारा दायर शिकायत के पीछे का कारण ‘पारिवारिक विवाद’ हो सकता है.

उन्होंने कहा कि महिला अपराध स्थल के बारे में ठीक-ठीक नहीं जानती, लेकिन उसने कहा कि उससे मुरथल के नजदीक एक इमारत में उस समय बलात्कार किया गया जब वह हरिद्वार से एक वैन में दिल्ली के नरेला लौट रही थी. 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App